संवाद सहयोगी, गोपेश्वर: श्री बदरीनाथ केदारनाथ मंदिर समिति संसाधनों के विकास के अलावा यात्री सुविधाओं पर भी जोर देगी। अस्तित्व खो चुके कुंडों, वेटिग रूम, मंदिर समिति की धर्मशालाओं, पुजारी व कर्मचारी आवासों पर विशेष ध्यान दिया जाएगा।

मंदिर समिति के मुख्य कार्यधिकारी बीडी सिंह ने बताया कि बीते रविवार को नई दिल्ली में धर्मस्व व संस्कृति मंत्री सतपाल महाराज की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में यह निर्णय लिया गया है। बताया कि बैठक में श्री बदरीनाथ एवं श्री केदारनाथ में यात्री सुविधाओं हेतु इंफ्रास्ट्रक्चर विकसित किए जाने पर चर्चा हुई। बैठक में पर्यटन मंत्री ने केदारनाथ धाम का कायाकल्प करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आभार व्यक्त किया। उन्होंने बताया कि केदारनाथ में हंस कुंड, उदक कुंड, रेतस कुंड, आदि गुरु शंकराचार्य समाधि स्थल, गौरीकुंड, यात्री वेटिग शेड, वेटिग रूम, भोग मंडी निर्माण, मंदिर समिति कार्यालय, प्रशासनिक भवन, पुजारी निवास एवं कर्मचारी आवास के कार्य किए जाएंगे। बदरीनाथ में यात्रियों की सुविधाओं संबंधी योजनाओं को मास्टर प्लान में रखा गया। मुख्य कार्याधिकारी बीडी सिंह ने बताया कि केदारनाथ में तेज गति से विकास एवं निर्माण कार्य किए जा रहे हैं। बैठक में अधिशासी अभियंता अनिल ध्यानी, आर्किटेक्ट नकुल शाह एवं चमोली, रुद्रप्रयाग एवं उत्तरकाशी के जिला पर्यटन अधिकारी भी शामिल हुए।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप