संवाद सहयोगी, गोपेश्वर: चारधाम में हृदयाघात से मरने वालों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। सोमवार को बदरीनाथ में दो और केदारनाथ व हेमकुंड साहिब में एक-एक तीर्थ यात्री ने हृदयाघात से दम तोड़ दिया। इसी के साथ ऋषिकेश व हेमकुंड साहिब समेत चारों धाम में अब तक 209 तीर्थ यात्रियों की मौत हो चुकी है।

जानकारी के अनुसार बदरीनाथ दर्शनों को आए आंध्र प्रदेश निवासी ओरेया गैंटी (78) व भीलवाड़ा (राजस्थान) निवासी शंकर लाल (64) और हेमकुंड साहिब की यात्रा पर आए अमृतसर (पंजाब) निवासी सतनाम सिंह (43) को सीने में तेज दर्द की शिकायत पर तत्काल चिकित्सालय पहुंचाया गया। जहां चिकित्सकों ने तीनों को मृत घोषित कर दिया। वहीं, केदारनाथ दर्शनों को जा रहीं कैसरबाग-लखनऊ (उत्तर प्रदेश) निवासी दीपा सोनकर (35) की रामबाड़ा के पास अचानक तबीयत बिगड़ गई। स्वजन ने दीपा को तत्काल भीमबली स्थित स्वास्थ्य केंद्र पहुंचाया, जहां चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. बीके शुक्ला ने बताया कि हृदयाघात से केदारनाथ में अब तक 98 तीर्थ यात्रियों की मौत हो चुकी है।

--------------------

धाम, 27 जून को, कुल मृतक

यमुनोत्री, 00, 40

गंगोत्री, 00, 12

केदारनाथ, 01, 98

बदरीनाथ, 02, 52

हेमकुंड, 01, 01

ऋषिकेश, 00, 06 अस्पतालों में फायर आडिट कराया जाएं

रुद्रप्रयाग: जिलाधिकारी मयूर दीक्षित ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग कोटेश्वर माधवाश्रम व जिला चिकित्सालय रुद्रप्रयाग में फायर आडिट करवाएं।

जिला चिकित्सालय सभागार में आयोजित बैठक में जिलाधिकारी ने कहा कि मरीजों की सुविधाओं के दृष्टिगत यह सुनिश्चित कर लिया जाए कि अधिकाधिक दवाइयां चिकित्सालय में ही उपलब्ध हो सकें। साथ ही बाहर से अनावश्यक दवाइयां न मंगाई जाएं। मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डा. राजीव सिंह पाल ने जिला चिकित्सालय रुद्रप्रयाग में वित्तीय वर्ष 2021-22 व 2022-23 का वर्षवार ब्यौरा प्रस्तुत किया। साथ ही पूर्व में आयोजित हुई बैठक में पारित प्रस्तावों पर की गई कार्यवाही से अवगत कराया। बताया कि जिला चिकित्सालय में पैथोलाजी लैब फर्नीचर, विद्युत सामग्री टेली मेडिसीन कार्य व आनलाइन वीडियो कांफ्रेंसिग को फर्नीचर, सीसीटीवी कैमरे आदि के कार्य पूर्ण कर लिए गए हैं। बैठक में मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डा. राजीव सिंह पाल, वरिष्ठ चिकित्साधिकारी भंडार डा. राजीव गैरोला, विधायक प्रतिनिधि प्रशांत बिष्ट सहित अन्य मौजूद थे। (संस)

Edited By: Jagran