संवाद सूत्र, जोशीमठ (चमोली): पहाड़ में स्वास्थ्य सेवाओं का क्या हाल है, इसकी बानगी चमोली जिले के सीमांत जोशीमठ ब्लॉक स्थित गणाई गांव में देखने को मिली। गांव में शनिवार सुबह एक बुजुर्ग को हार्ट अटैक आने के बाद अस्पताल पहुंचाने में पूरे पांच घंटे लग गए। उन्हें पहले सात किमी पैदल चलकर पालकी के सहारे रोड हेड तक लाया गया और फिर टैक्सी बुक कराकर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र (सीएचसी) जोशीमठ। यहां से प्राथमिक उपचार के बाद बुजुर्ग को श्रीनगर मेडिकल कॉलेज रेफर कर दिया गया है।

सड़क सुविधा से वंचित गणाई गाव तक पहुंचने आज भी सात किमी की दूरी पैदल नापनी पड़ती है। ग्रामीण जगदीश सती ने बताया कि शनिवार सुबह गांव में 60 वर्षीय अवतार सिंह को सीने में अचानक तेज दर्द की शिकायत हुई और वह बेहोश हो गए। इस पर ग्रामीणों ने उन्हें कुर्सी की पालकी में जंगल के रास्ते सात किमी दूर रोड हेड तक पाताल गंगा के पास पहुंचाया। फिर यहां से टैक्सी बुक कर उन्हें सीएचसी जोशीमठ लाया गया। बताया कि अवतार सिंह अब श्रीनगर मेडिकल कॉलेज में भर्ती हैं और डॉक्टरों ने उनकी हालत स्थिर बताई है।

---------------------

आज तक नहीं बनी 2017 में स्वीकृत सड़क

सड़क सुविधा से वंचित गणाई गांव में आज भी मूलभूत सुविधाओं का घोर अभाव है। खासकर किसी व्यक्ति के गंभीर बीमार पड़ने पर तो उसका भगवान ही सहारा है। पैदल रास्ता घने जंगल के बीच से गुजरता है और इस पर भूस्खलन का खतरा लगातार बना रहता है। 220 परिवारों वाले इस गांव के लिए वर्ष 2017 में सड़क स्वीकृत हुई थी। लेकिन, मामला वन अधिनियम में अटक जाने के कारण आज तक इस पर निर्माण कार्य शुरू नहीं हो पाया। ग्रामीण जगदीश सती ने बताया कि हर चौखट पर दस्तक देने के बावजूद ग्रामीणों की आज तक कोई सुनवाई नहीं हुई।

Posted By: Jagran

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस