गोपेश्वर, जेएनएन। आपदा के बाद अब चमोली के लोग भूकंप की दहशत में हैं। रात्रि को यहां भुकंप के झटके महसूस किए गए। इससे लोग घरों से बाहर निकल गए। हालांकि कहीं से कोई नुकसान की सूचना नहीं है। 

बरासत से ही चमोली जिले के लोग भूस्खलन और आपदा से बेहाल हैं। इस बार बारिश ने रोद्र रूप धारण किया और जिले में कई स्थानों पर कहर बरपा। वहीं, संपर्क मार्ग भी ध्वस्त हो गए हैं। बारिश कम हुई तो अब लोग भूकंफ से फिर दहशत में आ गए। 

गत आधी रात के बाद करीब दो बजकर 22 मिनट पर चमोली जिले के लोगों ने भूकंफ के झटके महसूस किए। लोग नींद से जाग उठे को घर से बाहर सुरक्षित स्थान की तरफ दौड़ लगा दी। 

रात को आए इस भूकंप की तीवत्रा 3.6 आंकी गई है। वहीं, भूकंप का केंद्र चमोली था। आपदा प्रबंधन अधिकारी नंदकिशोर जोशी ने बताया कि भूकंप से कोई नुकसान की सूचना नहीं है। 

यह भी पढ़ें: उत्‍तरकाशी में आया भूकंप, लोग घरों से निकले बाहर

गौरतलब है कि चमोली जनपद भूकंप की दृष्टि से अतिसंवेदनशील है। यह क्षेत्र जोन 5 में है। यहां 29 मार्च 1999 में भूकंप से भारी तबाही मची थी। तब 103 लोग मारे गए थे। उस दौरान यहां के भवनों को भारी नुकसान हुआ था।

यह भी पढ़ें: उत्तरकाशी में महसूस किए गए भूकंप के झटके, दहशत में आए लोग

Posted By: Bhanu

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप