संवाद सूत्र, जोशीमठ। सोमवार को चमोली जिला प्रशासन की टीम ने औली में 25 अवैध टेंट हटाए। इस दौरान टीम को स्थानीय व्यक्तियों के विरोध का भी सामना करना पड़ा। पिछले दिनों उपजिलाधिकारी ने औली में बिना प्राधिकरण के स्वीकृति के लगाए आवासीय टेंट को हटाने के निर्देश दिए थे। इन आदेशों के अमल में लाने के लिए सोमवार को तहसीलदार प्रदीप सिंह नेगी और नगर पालिका के अधिशासी अधिकारी सत्य प्रकाश नौटियाल मय फोर्स औली पहुंचे। इस दौरान नगर पालिका, प्रशासन और पर्यटन विभाग की टीम ने अवैध टेंट हटाये।इसके बाद औली में अन्य अतिक्रमण कर बनाए टिन शेड को हटाने के लिए एक सप्ताह का समय दिया है। नगर पालिका के अधिशासी अधिकारी सत्य प्रसाद नौटियाल का कहना है कि औली में अतिक्रमण बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। 

विश्व विख्यात हिमक्रीड़ा स्थल औली में शीतकाल के दौरान बीते कई सालों से पर्यटकों की आवाजाही काफी बढ़ गई है। पर्यटकों की बढ़ती संख्या को देखते हुए जोशीमठ-औली और टीवी टावर बैंड से परसारी तक कई होटल और रिसोर्ट और टेंट कॉलोनिया बनाई। स्थानीय युवा भी पर्यटन के माध्यम से स्वरोजगार का अवसर तलाश रहे थे।

दिसंबर माह से अब तक यहां पर प्रतिदिन पर्यटकों की भीड़ से यहां ठहरने के लिए इंतजाम कम पड़ रहे हैं। यही कारण है कि पर्यटन कारोबार के जरिये स्थानीय लोग खासकर युवा टेंट लगाकर पर्यटकों को आवासीय सुविधा और खान-पान उपलब्ध करा रोजगार कमा रहे हैं, लेकिन एकाएक प्रशासन की कार्रवाई से बेरोजगार आक्रोशित हैं। इसको लेकर उन्‍होंने अपना विरोध भी दर्ज कराया है।

यह भी पढ़ें - मांगों को लेकर कर्मचारियों ने किया आर-पार की लड़ाई का एलान, 11 जनवरी को करेंगे भूख हड़ताल