संवाद सूत्र, कर्णप्रयाग : विकासखंड कर्णप्रयाग अंतर्गत बीते तीन दिनों हुई बारिश के बाद ग्रामीण मोटर मार्गों की दशा बदत्तर बनी है। जान हथेली पर रखकर वाहन चालक सवारियां ढो रहे हैं, जबकि कतिपय मोटर मार्गों पर दोपहिया वाहनों का संचालन शुरू नहीं हो सका है। इस संबंध में स्थानीय प्रशासन एवं संबंधित विभाग को अवगत कराने के बाद स्थिति जस की तस है। जबकि बरसाती मलबे को हटाने में विभागों के पसीने छूट रहे हैं।

कपीरी पट्टी के तलसारी से राजकीय इंटर कालेज (राइंका) कनखुल तक मोटर मार्ग पर मलबा दो किमी क्षेत्र में पसरा पड़ा है, जिससे आवागमन नहीं हो पा रहा है। ग्रामीण किसी तरह आवागमन कर जरूरी सामान की सप्लाई जारी रखे हैं।

पूर्व प्रधान रणवीर सिंह, कपीरी संघर्ष समिति अध्यक्ष राजेंद्र सिंह, भगवान सिंह कंडवाल, दर्शन सिंह, देवेंद्र, सूरवीर सिंह ने कहा कि तलसारी-राइंका कनखुल-ग्वाड़ मोटर मार्ग पर आवागमन ठप पड़ा है, जबकि इस संबंध में पीएमजीएसवाई को अवगत कराया जा चुका है।

इसी तरह धारडुंग्री-मैखुरा, जयकंडी- बणसोली-मैखुरा मोटर मार्ग मलबा व पहाड़ी से आए बोल्डरों के कारण ठप है। क्षेत्र पंचायत सदस्य अंजना देवी, जितेंद्र कुमार, संजय मैखुरी ने बताया बीते दिनों हुई बारिश के चलते मार्ग केदारूखाल के समीप बिसोणा कनखुल तोक में तीन स्थानों पर बाधित है। इसी तरह जयकंडी-बणसोली मोटर मार्ग पर भी मलबा जमा हो जाने से आवागमन प्रभावित हो गया है। वहीं सिमली-शैलेश्वर, कर्णप्रयाग-नैनीसैंण मोटर मार्ग पर भी जगह-जगह बेरिकेट टूट जाने से वाहन चालक जोखिम उठाकर आवाजाही कर रहे हें। इस संबंध में लोनिवि गौचर के सहायक अभियंता एमएस बिष्ट ने बताया मार्ग पर जेसीबी मशीन मलबा साफ करने के लिए भेजी गई है।

वहीं पीएमजीएसवाई कर्णप्रयाग के अभियंता बीएन गोदियाल ने बताया ग्वाड़ मोटर मार्ग पर मशीन मलबा हटाने के कार्य में लगी है। शाम तक आवाजाही सुचारू कर दी जाएगी।

Edited By: Jagran