संवाद सहयोगी, चमोली।  मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने नारायणबगड़ तहसील के डुंग्री गांव पहुंचकर भूस्खलन में दबे दोनों ग्रामीणों के घर जाकर उनके स्वजन को सांत्वना दी। इसके बाद वो डुंग्री से आधा किमी पैदल चलकर आल्यूं तोक पहुंचे और आपदा से हुए नुकसान का जायजा लिया। वहीं मुख्यमंत्री ने नारायणबगड़ के ही नलगांव में आपदा में मारी गई महिला पुष्पा देवी के पति को चार लाख की सहायता राशि का चेक भी दिया।

मुख्यमंत्री हेलीकाप्टर से डुंग्री गांव के खेतों में बनाए गए अस्थायी हेलीपैड पर उतरे। यहां से वह पैदल ही आपदा में मारे गए ग्रामीणों के घर पहुंचे। इस दौरान मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने आपदा में मारे गए डुंग्री गांव निवासी भरत सिंह और महावीर सिंह के स्वजन को ढांढस बंधाया। उन्होंने कहा कि सरकार प्रभावित परिवारों की हरसंभव मदद करेगी। इसके बाद मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने गांव से आधा किमी दूर आल्यूं तोक जाकर आपदा से हुए नुकसान का जायजा भी लिया। भरोसा दिया कि किसी भी संसाधन की कमी नहीं होने दी जाएगी। उन्होंने कहा कि जो व्यक्ति आपदा में मारे गए हैं, उनके स्वजन को सरकारी सेवा में समायोजित करने का प्रयास किया जाएगा। मुख्यमंत्री के साथ पर्यटन एवं जिला प्रभारी मंत्री सतपाल महाराज एवं आपदा प्रबंधन मंत्री डा. धन सिंह रावत, विधायक मुन्नी देवी शाह भी मौजूद रहे।

सात किमी पैदल चले अधिकारी

परखाल-डुंग्री मोटर मार्ग बीते 18 अक्टूबर से बंद होने के चलते मुख्यमंत्री के दौरे के लिए अधिकारी सात किमी पैदल चलकर डुंग्री गांव पहुंचे। मुख्य विकास अधिकारी वरुण चौधरी के अलावा अन्य अधिकारी परखाल से पैदल चलकर गांव तक पहुंचे। बताया गया कि मुख्यमंत्री के दौरे को देखते हुए परखाल-डुंग्री सड़क पर दो जेसीबी मशीन मलबा हटाने के लिए सुबह से ही लगाई गई थी, लेकिन अधिकारियों के मौके पर पहुंचने तक सड़क से मलबा नहीं हटाया जा सका।

यह भी पढ़ें:- मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा- आपदा राहत कार्यों का स्थलीय निरीक्षण करें प्रभारी मंत्री

Edited By: Sunil Negi