चमोली, जेएनएन। बलाण गांव के बुजुर्ग की अंत्येष्टि के लिए आ रहे परिजनों और अन्य ग्रामीणों का वाहन दुर्घटनाग्रस्त होकर नदी में समा गया। हादसे में मृतक बुजुर्ग के बेटे और दामाद समेत आठ लोगों की मौत हो गई, जबकि एक लापता है। पांच अन्य लोगों को चोटें आई हैं। इनमें दो की हालत नाजुक बनी हुई है। बताया जा रहा है कि चार लोग वाहन की छत पर भी बैठे थे, संतुलन बिगड़ने पर वह नीचे कूद गए। हादसे का कारण प्रथमदृष्टया ओवरलोडिंग माना जा रहा है। बताया गया कि 9 सीटर मैक्स वाहन में 18 लोग सवार थे। बुजुर्ग को इलाज के लिए देहरादून लाया जा रहा था, लेकिन उन्होंने रास्ते में दम तोड़ दिया था। रविवार को देवाल के निकट संगम स्थित श्मशान घाट पर उनका अंतिम संस्कार होना था। राज्यपाल बेबी रानी मौर्य और मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने दुर्घटना पर दुख व्यक्त किया। 

हादसा चमोली जिला मुख्यालय से करीब 160 किलोमीटर दूर बलाण गांव के निकट हुआ। घटनाक्रम के अनुसार गांव के 62 वर्षीय पदम सिंह पटाकी को कुछ दिनों से पेट दर्द की शिकायत थी। परिजनों की सलाह पर शनिवार दोपहर तीन लोग उन्हें देहरादून में उपचार दिलाने के लिए गांव से चले। 45 किलोमीटर सफर करने के बाद वह देर शाम देवाल पहुंचे, लेकिन वाहन न मिलने के कारण रात वहीं एक होटल में रुक गए। इस बीच बुजुर्ग की तबीयत बिगड़ गई और कुछ देर बाद उन्होंने दम तोड़ दिया। साथ आए लोगों ने किसी तरह परिजनों तक सूचना पहुंचाई।

परिजनों और गांव वालों की सलाह तक बुजुर्ग की अंत्येष्टि देवाल संगम पर करना तय हुआ। इसके लिए परिजनों और गांव के कुछ अन्य लोग रविवार दोपहर पौने बारह बजे मैक्स वाहन से देवाल के लिए चले। उनके साथ एक लोडर भी था, जिसमें अंत्येष्टि के लिए लकडिय़ां रखी हुई थी। वाहन गांव से करीब ढाई किलोमीटर दूर पहुंचा था कि अचानक अंसुलित हो गया और लगभग 15 फीट सड़क पर घिसटने के बाद करीब ढाई सौ मीटर गहरी खाई से लुढ़क कर कैल नदी में समा गया। 

संचार सेवा बाधित होने के चलते आसपास के गांव वालों ने वहां से गुजर रहे एक अन्य वाहन चालक के माध्यम से देवाल थाना पुलिस तक यह सूचना पहुंचाई। पुलिस, एसडीआरएफ और जिला प्रशासन की रेस्क्यू टीम करीब डेढ़ घंटे बाद मौके पर पहुंच पाई। इससे पहले ग्रामीण रेस्क्यू में जुट गए थे। हादसे में आठ लोगों की मौत हो गई, एक अभी लापता चल रहा है।

पांच अन्य को गंभीर चोटें आई हैं। इनमें गोपाल सिंह और चालक महावीर सिंह की स्थिति को गंभीर देखते हुए बेस अस्पताल श्रीनगर रेफर कर दिया गया, जबकि तीन को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र थराली में उपचार दिया जा रहा है। मरने वालों में मृतक बुजुर्ग पदम सिंह का बेटा मदन सिंह और दामाद सुरेंद्र सिंह भी शामिल हैं। चमोली के पुलिस अधीक्षक यशवंत सिंह चौहान ने बताया कि खाई से आठ शव निकाल लिए गए हैं, एक की खोजबीन की जा रही है। 

डीएम ने घायलों का हाल पूछा

चमोली की डीएम स्वाति एस भदौरिया ने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र थराली पहुंचकर घायलों का हाल पूछा। उन्होंने डॉक्टरों को समुचित उपचार के निर्देश दिए। 

9 सीट में पास था वाहन

चमोली की एआरटीओ एल्विन राक्सी ने बताया कि दुर्घटनाग्रस्त वाहन नौ सीट में पास था। प्रथमदृष्टया हादसे की वजह ओवरलोडिंग मानी जा रही है। तकनीकी जांच के बाद ही असल कारण का पता चल पाएगा। 

मजिस्ट्रीयल जांच के आदेश

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने घटना की मजिस्ट्रीयल जांच के आदेश दिए हैं। उन्होंने चमोली की डीएम को मृतक आश्रितों और घायलों को अनुमन्य सहायता राशि उपलब्ध करवाने के भी निर्देश दिए हैं। 

इनकी गई जान

जयवीर सिंह(30) पुत्र नारायण सिंह

सुरेंद्र सिंह(30) पुत्र बलवंत सिंह

मदन सिंह(55) पुत्र केदार सिंह

कैलाश सिंह(41) पुत्र गोविंद सिंह

मदन सिंह(32) पुत्र पदम सिंह पटाकी

दरवान सिंह(65) पुत्र राम सिंह

धर्म सिंह(59) पुत्र पार सिंह

गोपाल सिंह(39) पुत्र मदन सिंह

(सभी निवासी बलाण गांव, देवाल) 

जय सिंह(52) पुत्र पुष्कर सिंह निवासी बलाण गांव (लापता) 

यह भी पढ़ें: लैंसडोन में खाई में गिरी कार, एक महिला की मौत और तीन घायल

इन्हें आई हैं चोटें

मोहन सिंह(36)पुत्र भजन सिंह

हिम्मत सिंह (45) पुत्र हयात सिंह

आलम राम (38) पुत्र हयात राम

महावीर सिंह(32) पुत्र भजन सिंह वाहन चालक

गोपाल सिंह(38) पुत्र गोविंद सिंह

(सभी निवासी बलाण गांव, देवाल) 

यह भी पढ़ें: चंबा-ऋषिकेश राजमार्ग मैक्स वाहन दुर्घटनाग्रस्त, एक की मौत; दस लोग घायल

Posted By: Raksha Panthari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप