कालेश्वर लिफ्ट पेयजल योजना के 40 मीटर पाइप क्षतिग्रस्त

फोटो- नगर की लिफ्ट पेयजल योजना भूस्खलन की जद में आ गई है, जिससे दो दिन से पानी की किल्लत बनी है।

संवाद सहयोगी, कर्णप्रयाग: कर्णप्रयाग-बदरीनाथ राजमार्ग के उमट्टाधार धार के समीप भूस्खलन होने से जलसंस्थान की कालेश्वर लिफ्ट पेयजल योजना के 40 मीटर पाइप क्षतिग्रस्त हो गए। जिससे नगर के आइटीआइ, शक्तिनगर में जलसंकट गहरा गया है। वहीं मुख्य बाजार, सुभाषनगर में भी पानी की किल्लत हो गई है। उधर देवतोली के लिए बनी चट्टवापीपल पेयजल योजना पर भी आलवेदर कटिग कार्य के चलते जलसंस्थान पानी रबर के पाइप के सहारे चला रहा है। लेकिन बरसात में पहाड़ी से मलबा पानी की पेयजल योजना को नुकसान पहुंचा रहा है।

स्थानीय निवासी दीपक, संतोष, सब्बल, उमेश व राजेन्द्र ने कहा कि तीन साल पूर्व नगर की दस हजार से अधिक की आबादी के लिए जलसंस्थान ने नौ करोड़ की लागत से आठ किमी लिफ्ट पेयजल योजना तैयार की। इस योजना का लाभ 60 प्रतिशत आबादी को मिल पाया है, जबकि जलसंस्थान 80 प्रतिशत पानी आपूर्ति का दावा कर रहा है। अब सड़क चौड़ीकरण की जद में आने से पेयजल योजना के छह पाइप जोड़ने में विभाग के पसीने छूट रहे हैं। दो दिन में दो पाइप भी विभाग पहाड़ी तक चढ़ाने में सफल नहीं हो सका है। विभागीय अधिकारियों का कहना है बारिश व खड़ी चढ़ाई के चलते पेयजल योजना के पाइप पहुंचाने में समय लग रहा है।

नगर क्षेत्र के लिए बनी कालेश्वर लिफ्ट पेयजल योजना आलवेदर कटिंग कार्य के चलते हुए भूस्खलन की जद में आ गई है। जिससे अब लाइन को इस क्षेत्र से 100 मीटर उपर शिफ्ट करना है। इसके लिए लगातार कर्मचारी काम कर रहे हैं जल्द पानी की समस्या का निदान हो जाएगा। सड़क से लगे आवासीय भवनों तक टैंकरों के माध्यम से पानी पहुंचाया जा रहा है। वहीं एक अन्य पेयजल योजना चट्टवापीपल पर रबर के पाइप लगाकर आपूर्ति की जा रही है।

-डीसी पुरोहित, सहायक अभियंता जलसंस्थान कर्णप्रयाग

Edited By: Jagran