जागरण संवाददाता, बागेश्वर : जिले के किसान परेशान और हताश हैं। जंगली सूअरों ने उनकी फसल पूरी तरह बर्बाद कर दी है। सूअर रात में खेतों को खोदकर फसलों को नष्ट कर रहे हैं और भगाने पर वह किसानों को काटने को दौड़ रहे हैं। जिससे ग्रामीण इलाकों में भय का माहौल बना हुआ है। किसानों ने वन विभाग से सूअरों के नुकसान से निजात दिलाने को सूअररोधी दीवारों का निर्माण कराने की मांग की है।

द्यांगण, अड़ोली, बहूली, खोली, अमसरकोट, डोबा, चौहना, बमडाना, छनापानी, शीशाखानी, लेटी, अमतौड़ा, स्यूनी आदि गांवों में जंगली सूअरों ने आतंक मचाया हुआ है। सूअरों के झुंड शाम होते ही गांवों की तरफ रुख कर रहे हैं और धान, मडुवा, झिगोरा, पिनालू, गडेरी समेत अन्य फसलों को बर्बाद कर रहे हैं। वन पंचायत सरपंच पूरन सिंह रावल ने बताया कि सूअरों को भगाने पर वह काटने को आ रहे हैं। जिससे गांव में दहशत का माहौल बना हुआ है। ग्रामीण विशन सिंह भंडारी, धन सिंह डयाराकोटी, ग्राम प्रधान शीशाखानी हरीश मनराल, बसंत सिंह मनराल, आनंद सिंह आदि ने वन विभाग से सूअर रोधी दीवारों का निर्माण कराने की मांग की है।

----------

विरोध करने पर मुकदमा

वन पंचायत सरपंच संगठन के जिलाध्यक्ष पीएस रावल ने कहा कि द्यांगण-अड़ोली में गत दिनों गुलदार का आतंक छाया हुआ था और द्यांगण ओर नदीगांव में दो मासूम मार दिए थे। ग्रामीणों ने इसका विरोध किया था और सरकार ने ग्रामीणों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करा दिया है। उन्होंने कहा कि अब सूअरों ने आतंक मचा दिया है। यदि कोई बड़ी घटना हुई तो इसका जिम्मेदार जिला प्रशासन होगा।

..........

जंगली सूअरों को मारने की छूट है लेकिन उससे पूर्व ग्रामीणों को वन विभाग को सूचना देनी होगी। सूअरों के आतंक को कम करने के लिए सूअर रोधी दीवार निर्माण के लिए प्रस्ताव शासन को भेजा जाएगा।

-बीएस शाही, डीएफओ

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप