बागेश्वर, [जेएनएन]: पेयजल की मांग को लेकर मन्यूड़ा के ग्रामीणों ने खाली बर्तनों के साथ तहसील कार्यालय में जोरदार प्रदर्शन किया। उन्होंने पुरड़ा गांव पर पानी टेप करने का आरोप लगाया। साथ ही समस्या का जल्द से जल्द समाधान करने को लेकर उप जिलाधिकारी को ज्ञापन सौपां। इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने चेतावनी दी कि अगर पेयजल समस्या का जल्द समाधान नहीं किया गया तो उग्र आंदोलन किया जाएगा।

मन्यूड़ा की ग्राम प्रधान तारा देवी के नेतृत्व में सैकड़ों ग्रामीण जुलूस की शक्ल में तहसील मुख्यालय पहुंचे और उन्होंने पेयजल की मांग को लेकर प्रदर्शन किया। इस मौके पर आयोजित सभा में वक्ताओं ने कहा कि मन्यूड़ा ग्राम पंचायत के लिए साल 2009 में  स्वजल ने 41 लाख की लागत से हुनेरा-गधेरे से पेयजल योजना का निर्माण किया। जो साल 2011 में पूर्ण हुई। 

इस योजना से ग्रामीण अपनी पेयजल आपूर्ति कर रहे थे। लेकिन इस बीच पुरड़ा के ग्रामीणों ने हंस फाउंडेशन के सहयोग से अपने गांव को भी इसी गधेरे से पेयजल योजना बना दी। ग्रामीणों ने कहा कि जहां से मन्यूड़ा गांव को पानी की आपूर्ति होती है, ठीक उसी के ऊपर से पुरड़ा गांव के लिए पानी टेप किया गया है। जिससे मन्यूड़ा गांव की पेयजल आपूर्ति ठप हो गई है और पानी के लिए हाहाकार मच गया। 

वक्ताओं ने कहा कि मन्यूड़ा सबसे बड़ी ग्राम सभा है। इस ग्राम सभा में 11 वार्ड हैं और 537 परिवार रहते हैं। ग्रामीण पेयजल के लिए मोहताज हो गए हैं। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि शीघ्र मन्यूड़ा गांव के ऊपर से पुरड़ा गांव की पेयजल लाइन नहीं हटाई गई तो उग्र आंदोलन किया जाएगा।

यह भी पढ़ें: एम्स के खिलाफ उत्तराखंड जन विकास मंच का क्रमिक अनशन शुरू

यह भी पढ़ें: जबरन बस्ती उजाड़ने के फरमान पर विधायक आवास का घेराव 

यह भी पढ़ें: एनएच-109 से अतिक्रमण हटाने का विरोध शुरू 

 

Posted By: Raksha Panthari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस