जागरण संवाददाता, बागेश्वर: जिला अस्पताल में मारपीट की घटना के चार दिन बाद भी सुरक्षा कर्मी की तैनाती नहीं होने से गुस्साए चिकित्सकों ने जमकर प्रदर्शन किया। डाक्टरों व अन्य स्टाफ ने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर रविवार 20 अक्टूबर तक अस्पताल में सुरक्षा कर्मी की तैनाती नहीं होती तो सोमवार 21 अक्टूबर से पूरे जिले की ओपीडी का बहिष्कार कर आंदोलन करने को मजबूर होना पड़ेगा।

शनिवार को जिला अस्पताल परिसर में चिकित्सकों ने शासन-प्रशासन के खिलाफ जमकर प्रदर्शन किया। चिकित्सकों ने कहा कि जिला अस्पताल में रात के समय हमेशा अराजक तत्व शराब पीकर घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं। चिकित्सकों व तीमारदारों के साथ मारपीट आम घटना होने लगी है। वहीं अस्पताल में पड़ा सामान भी तोड़ा-फोड़ा जा रहा है। कई बार पहले भी चिकित्सक सुरक्षा कर्मियों की तैनाती की मांग कर चुके हैं, लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई। हमेशा उन्हे आश्वासन ही दिया जाता है। इस बार चिकित्सक बहकावे में नहीं आने वाले हैं। जब तक जिला अस्पताल में चिकित्सकों, तीमारदारों व मरीजों की सुरक्षा की गारंटी नही मिल जाती तब तक आंदोलन जारी रहेगा। सोमवार से पूरे जिले में ओपीडी का बहिष्कार किया जाएगा। अगर जरुरत पड़ी तो पूरे प्रदेश में आंदोलन को तेज धार दी जाएगी। प्रांतीय चिकित्सा सेवा स्वास्थ्य संघ के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. राजीव उपाध्याय ने बताया कि इस संबंध में जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक को भी ज्ञापन दिया गया। उन्होंने आश्वासन तो दिया है देखते है अब कब तक व्यवस्था होती हे। इस अवसर पर डॉ. मनीष पंत, डॉ. एलएम बृजवाल, डॉ. गुंजन, डॉ. मुन्ना लाल, डॉ. देवेश तिवारी, डॉ. गिरिजा शंकर जोशी, डॉ. एजेल पटेल, डॉ. रीमा उपाध्याय, गीता सहित कई चिकित्सकीय स्टाफ मौजूद था।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप