जागरण संवाददाता, बागेश्वर: अंधड़ के चलते सोमेश्वर-कौसानी की 33 हजार वोल्ट की मुख्य बिजली लाइन पर बुधवार को चनौदा के समीप विशालकाय चीड़ का पेड़ गिर गया। ऐसे मे रात भर कौसानी, रवांइखाल और गरुड़ क्षेत्र की बिजली गुल रही। ऊर्जा निगम ने गुरुवार सुबह से लाइन दुरुस्त करने का काम शुरू कर दिया है।

बुधवार को गरुड़, कौसानी क्षेत्र में तेज हवा चलीं। इस दौरान सोमेश्वर से कौसानी की तरफ आने वाली 33 हजार वोल्ट की मुख्य लाइन में चनौदा नामक स्थान पर विशालकाय पेड़ गिर गया। ऐसे में विकास खंड गरुड़ गागरीगोल जैंसर, सीर, सीमार, मन्यूड़ा, क्षेत्रपाल, पेटलाकोट, भौंरा, रामपुर, कोठों, पुरड़ा, लखमार, रियूनी के अलावा विकासखंड बागेश्वर के रवांइखाल क्षेत्र के सभी गांवों की बिजली आपूíत ठप हो गई है। लगभग 30 हजार से अधिक जनता प्रभावित हो गई। इन गांवों में रातभर बिजली गुल रही। लोगों ने रात में ऊर्जा निगम को फोन से सूचना दी, लेकिन सुबह तक आपूíत बहाल नहीं हो सकी। रवांइखाल निवासी विपिन चंद्र जोशी ने बताया कि बिजली नहीं होने से उनके मोबाइल फोन भी ठप हो गए हैं। जंगल से सटे गांवों में रात को जंगली जानवरों का खतरा मंडराते रहा है। मन्यूड़ा गांव के शंकर रावत, दीपक पाठक, पूरन पाठक, श्याम पांडे, विनोद कांडपाल, विपिन पांडे आदि ने बताया कि आपूíत सुचारु नहीं होने से कई काम प्रभावित हो गए। इधर, ऊर्जा निगम के अधिशासी अभियंता भास्कर पांडे ने कहा कि आपूíत सुचारु करने की कोशिश की जा रही है। जल्द ही व्यवस्था ढर्रे पर आ जाएगी। ग्रामीण क्षेत्रों में खासतौर पर ध्यान दिया जा रहा है।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021