जागरण संवाददाता, बागेश्वर : जिलाधिकारी ने सोमवार को जनसुनवाई की। जिसमें बिजली, पानी, सड़क और मुआवजा आदि मुद्दे उठे। पीड़तिों ने आपदा से ध्वस्त मकानों की मरम्मत के लिए आíथक मदद की गुहार लगाई। डीएम ने एक सप्ताह के भीतर शिकायतों का निस्तारण करने के निर्देश अफसरों को दिए।

कलक्ट्रेट में जनसुनवाई में जिलाधिकारी ने प्रत्येक व्यक्ति से सीधा संवाद किया। 12 शिकायतें दर्ज हुई और उनके निस्तारण के लिए सात दिन का समय अफसरों को दिया। जिलाधिकारी ने कहा कि जनसुनवाई में आने वाले मुद्दों पर अब हीलाहवाली नहीं सही जाएगी। शिकायतकर्ता रामलाल निवासी ग्राम झॉकरा ने बताया कि ढप्टी-झांकरा सड़क चार किमी तक बन सकी है। दो किमी में मलबा और पत्थर अभी भी नहीं हट सके हैं। डीएम ने यह मसला गंभीरता से लिया और लोनिवि कपकोट को सड़क खोलने के निर्देश दिए। कपकोट के महेश गढ़यिा ने बताया कि प्राइवेट स्कूलों में शिक्षा अधिकारी नियम का उल्लंघन हो रहा है। मलखाडुर्गचा के उमेद राम ने बताया कि उनका मकान शार्टर्सिकट से जलकर खाक हो गया था और उन्हें मुआवजा नहीं मिल सका है। डीएम ने एसडीएम कपकोट को जांच के निर्देश दिए। गोगिना गांव के शेर ¨सह ने रास्तों की दयनीय हालत बताई। दुग बाजार के ग्रामीणों ने पानी की समस्या से अवगत कराया। इस मौके पर सभी विभागों के अधिकारी मौजूद रहे।

Posted By: Jagran