जागरण संवाददाता, बागेश्वर : द्यांगण-अड़ोली बाइपास अराजकता का अड्डा बना हुआ है। जिससे नीलेश्वर मंदिर की आस्था पर भी चोट पहुंच रही है। अराजक तत्व रात में कलमठों और सड़क में मुíगयों का कूड़ा-कचरा आदि फेंक रहे हैं। जिससे द्यांगण और अड़ोली गांव के ग्रामीण आक्रोशित हैं। उन्होंने जिलाधिकारी से कार्रवाई की मांग की है।

गुरुवार को ग्रामीण जिलाधिकारी कार्यालय पहुंचे। कहा कि द्यांगड़, अड़ोली बाइपास जो नीलेश्वर मंदिर को भी जोड़ता है, उस रोड पर कई दिनों से अज्ञात तत्वों द्वारा रात में कूड़ा-कचरा और मुíगयों के अवशेष डाले जा रहे हैं। जिससे क्षेत्र में रह रहे लोगों को दुर्गंध का सामना करना पड़ रहा है। पर्यावरण के लिए भी यह हानिकारक हो सकता है। यह क्षेत्र पिछले कई महीनों से गुलदार का आतंक झेल रहा है। मुíगयों के अवशेष के लिए जंगली जानवर और गुलदार भी रिहायशी इलाके में धमक रहा है। जंगली सूअरों ने भी गांव की फसलों को रौंद डाला है। ग्रामीणों ने कहा कि मंदिर जाने वालों, माíनंग वाक करने वालों के साथ ही बच्चों को भी परेशानी हो रही है। उन्होंने अराजक तत्वों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की। इस मौके पर दीपक सिंह रावल, सुनील चंद्र जोशी, शेखर चंद्र, भगवत आदि मौजूद थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस