जागरण संवाददाता, बागेश्वर: जिलाधिकारी रंजना राजगुरु ने कपकोट क्षेत्र का रुख किया। उन्होंने क्षेत्र में बंद सड़कों का निरीक्षण किया और सड़कों को जल्द खोलने के निर्देश दिए। उन्होंने खारबगड़ में दरक रही पहाड़ी का भी निरीक्षण किया और 11 केवी की बिजली लाइन को हुई क्षति का आंकलन किया।

जिलाधिकारी ने भयूं, गडेरा, परगड़, लीली, गैनाड़ और खारनबगड़ का निरीक्षण किया। भारी बारिश होने से निरीक्षण में खलल पैदा हुआ। डीएम ने बताया कि भयूं-गडेरा रोड जाखेल के साथ पूरी तरह भूस्खलन की भेंट चढ़ गई है। उन्होंने बताया कि लोनिवि को सख्त दिशा-निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने बताया कि सड़क को एक हफ्ते के भीतर खोलने के निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने बताया कि निर्माण कार्य में गुणवत्ता पर विशेष ध्यान देने के निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि आपदा के कार्यों में हीलाहवाली कतई मंजूर नहीं होगी। उन्होंने बताया कि कपकोट-¨पडारी और हर¨सग्याबगड़ सड़क भी आपदा से प्रभावित है। खारबगड़ में पहाड़ी से भूस्खलन हो रहा है जिससे 11 केवी की बिजली लाइन प्रभावित है। उन्होंने बताया कि बिजली विभाग ने वैकल्पिक व्यवस्था से लाइन सुचारू की है, लेकिन लाइन की मरम्मत जरूरी है। उन्होंने बताया कि लीली-गैनाड़ मोटर मार्ग में पूरा पहाड़ टूट गया है। जिससे सड़क बंद है। जिसकी मरम्मत के निर्देश दिए गए हैं और कार्य में गुणवत्ता पर विशेष ध्यान देने को कहा गया है। सड़क महकमे को निर्माण कार्य का मॉनीट¨रग करने के निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने बताया कि लीली-गैनाड़ में झूला पुल का अपरमेंट क्षतिग्रस्त है उसकी मरम्मत के निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि गडेरा में चार परिवारों ने घर छोड़ दिए हैं। उन्हें चार हजार रुपये किराये के लिए स्वीकृत कर दिए गए हैं। उन्होंने बताया कि क्षेत्र में राशन आदि की कोई दिक्कत नहीं है। इस मौके पर एसडीएम कपकोट रवींद्र बिष्ट, लोनिवि ईई एसके पांडे आदि मौजूद थे।

Posted By: Jagran