जासं, बागेश्वर: छठ पर्व का रविवार को उगते सूर्य को अ‌र्घ्य देने के साथ ही संपन्न हुआ। व्रतियों ने 36 घंटे से चले आ रहे कठोर उपवास को पूरा किया। छठी माई और सूर्य भगवान से सुख और समृद्धि का आशीर्वाद मांगा।

गुरुवार से शुरू हुआ पर्व विधि विधान के साथ संपन्न हो गया है। व्रतियों ने बताया कि छठ का उपवास काफी कठिन होता है। उपवास करने वाले बिना कुछ खाये, पीये रहते हैं। इस व्रत में डूबते और उगते सूर्य को अ‌र्घ्य देने का खास महत्व है। जंग बहादुर भगत, लाल बाबू प्रसाद ने बताया कि छठ पूजा पूर्वांचल के लोगों का बेहद खास पर्व है। उनका परिवार पिछले 22 सालों से गरुड़ में रह रहा है। जहां वह हर साल छठ पूजा का आयोजन करते हैं। सभी लोग इसमें बढ़-चढ़कर भागीदारी करते है। इस अवसर पर आगाश गामा, आरती, आलोक, आशीष, रोजित, विरेंद्र, निर्जला सहित अन्य पारिवारिक सदस्य मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस