जागरण संवाददाता, बागेश्वर: पर्यटन विभाग गोल्डन वैली ऑफ हिमालयन एडवेंचर थीम के जरिए नए स्थल विकसित करने जा रहा है। प्रस्ताव शासन को भेजा गया है और केंद्रीय एजेंसी की जांच के बाद मुहर लगनी बांकी है। अलबत्ता नए पर्यटक स्थल विकसित होने जिले की आíथकी बढ़ने की पूरी संभावना है। पर्यटन विभाग ने बागेश्वर में भी पर्यटन को बढ़ाने के लिए नई योजना तैयार की है। जिले में पिडारी ग्लेशियर, बैजनाथ मंदिर, बागनाथ मंदिर, कौसानी में सैलानी आते हैं, लेकिन अन्य स्थान उपेक्षित रह जाते हैं। अब पर्यटन विभाग गोल्डन वैली ऑफ हिमालयन एडवेंचर थीम के तहत पैराग्लाइडिग, रिवर राफ्टिग, माउंटेन बाइकिग, स्कीइंग के लिए स्थल चिह्नित किए हैं। पर्यटन विभाग ने प्रस्ताव बनाकर शासन को भेज दिया है। अब केंद्रीय एजेंसियां प्रस्ताव के अनुसार स्थलों का मुआयना करेगी। ========== सहासिक खेलों से मिलेगा मुकाम -सरयू नदी से बालीघाट मेहनरबूंगा-राफ्टिग

-सरयू नदी में बिलौना से बूढ़ाधार-एंग्लिग

-धाकुड़ी, चिल्ठा टॉप-स्नो स्कीइंग

-बैजनाथ झील-नौका विहार

-बिलौना, दुलम-पैराग्लाइडिग

-जौलकांडे, कौसानी-माउंटेन बाइकिग सेंटर

-पिडारी, कफनी, नामिक, सुंदरढूंगा घाटी-ग्लेशियर ट्रैकिग

-कौसानी, धरमघर, शिखर-बर्ड वॉचिग =========

ये लोकल ट्रैक होंगे विकसित धरमघर-कालीनाग-कस्तूरी मार्ग-फेणीनाग तक, बैजनाथ-गरुड़-कौसानी, शिखर भनार, शामा, देवलधार, पांडूस्थल।

========== गोल्डन वैली ऑफ हिमालयन एडवेंचर थीम के जरिए साहसिक खेलों के लिए नए पर्यटन स्थल विकसित करने की योजना बनाई गई है। प्रस्ताव शासन के पास भेजा है, केंद्रीय एजेंसी की जांच के बाद मुहर लगेगी। -कीर्ति चंद्र आर्य, जिला पर्यटन अधिकारी, बागेश्वर।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप