जागरण संवाददाता, बागेश्वर : आदिशक्ति स्वरूपा मां नंदा भगवती मंदिर पोथिग में हर तीसरे वर्ष होने वाली स्यौपाती पूजा का देर रात समापन हो गया है। सुबह से ही मंदिर में भक्तों का तांता लगा रहा। भक्तों ने माता को घंटे-घड़ियाल, भकोरे, चुनरी, निशाण, ढोल-नगाड़े अर्पित किए और 500 ग्राम की वजनी पूड़ियों का भोग मां को लगाया गया।

मंदिर में दिनभर दर्शनाíथयों का तांता लगा रहा। गांव की शादीशुदा बेटियों ने अपने मायके की आराध्य मां नंदा के धाम में आकर पूजा-अर्चना की। दिन में सुप्रसिद्ध पोथिग का मेला आयोजित किया गया। जिसमें दूर-दूर से व्यापारियों ने आकर दुकानें लगाई। शाम डिकर सेवाना की पवित्र और भावपूर्ण रस्म अदा की गई। इसके बाद माता के मंदिर में बनी हजारों पूड़ियों का वितरण हुआ।

----------

झोड़े-चांचरी का आनंद

हर वर्ष की भांति भक्तों ने माता के प्रांगण में पारंपरिक लोकनृत्य गीत झोड़ा-चांचरी गाकर अपना और दर्शकों का मनोरंजन किया। महिलाओं ने कुमाऊंनी पारंपरिक विधा में बढ़चढ़कर अपनी सहभागिता की। क्षेत्र के प्रसिद्ध चांचरी गायक गोपाल सिंह गढि़या, दलीप सिंह बिष्ट आदि वरिष्ठ लोगों ने नई पीढ़ी को चांचरी की पारंपरिक विधा से अवगत कराया।

----------

दोफाड़ में नंदादेवी महोत्सव आज

नंदादेवी मेला महोत्सव दोफाड़ में आज से नंदादेवी मेला शुरू होगा। क्षेत्रीय विधायक बलवंत भौर्याल मेले का शुभारंभ करेंगे। महिलाएं कलश यात्रा निकालेंगे और सांस्कृतिक कार्यक्रमों की धूम रहेगी। छह सितंबर को मेले का समापन होगा। मेला समिति के अध्यक्ष सुरेश कालाकोटी, संरक्षक जगदीश कालाकोटी ने बताया कि मेले की तैयारियां पूरी कर ली गईं हैं।

-----------

सीमार में स्यौपाती की धूम

सीमार में स्यौपाती में धूम मची हुई है। देव डांगरों ने अवतरित होकर लोगों को सुख-शांति आदि का आर्शीवाद दिया। इस मौके पर राजेंद्र भरड़ा, नंदन सिंह, बलवंत सिंह, आनंद सिंह, खड़क सिंह, सुरेश दास, बहादुर दास, पान सिंह, ठाकुर सिंह, रमेश सिंह भरड़ा, नंदी देवी, कलावती भरड़ा, गीता भरड़ा, विनोद भरड़ा आदि मौजूद थे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप