जागरण संवाददाता, बागेश्वर : बदलते मौसम का असर मनुष्य पर ही नहीं बल्कि पशुओं पर भी होता है। इस मौसम में पशु मुंहपका, खुरपका जैसी घातक बीमारी की चपेट में आ जाते हैं। इसकी रोकथाम के लिए पशुपालन विभाग ने कमर कस ली है। विभाग का लक्ष्य जिले में एक लाख, नौ हजार, 428 पशुओं में टीकाकरण करने का है। इसके लिए 65 अधिकारी और कर्मचारियों की 13 टीमें गठित कर दी हैं जो 45 दिन तक गांव-गांव जाकर टीकाकरण का काम करेंगे।

मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डॉ. उदय शंकर ने अभियान का शुभारंभ किया। जिलाधिकारी रंजना राजगुरु के निर्देश के बाद विभाग ने अभियान शुरू कर दिया है। सीवीओ डॉ. शंकर ने बताया कि यह इस कार्यक्रम का छठा चरण है। इसके तहत जनपद के 109428 गोवंशीय एवं महिषवंशीय पशुओं का टीकाकरण किया जाएगा। प्रति पशु दो रुपये राजकीय शुल्क लिया जाएगा। पशु के लिए स्वास्थ कार्ड भी वितरित किया जाएगा। टीकाकरण से पूर्व अलग-अलग ग्रामों से पशुओं के रक्त सीरम के सैंपल लिए जाएंगे। उन्होंने बताया कि इस कार्यक्रम का राष्ट्रव्यापी शुभारंभ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 11 सितंबर को मथुरा वैटनरी संस्थान में किया गया था। इस बीमारी के कारण देश को प्रति वर्ष लगभग 20 हजार करोड़ रुपये की हानि होती है। अनेक देशों में दुग्ध उत्पादन एवं मांस का निर्यात प्रभावित होता है। उन्होंने समस्त पशुपालकों से अपील भी की है कि वे उनके ग्राम भ्रमण के दौरान पशुपालन विभाग की टीमों को सहयोग प्रदान करें।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप