जागरण संवाददाता, बागेश्वर : रेल संघर्ष समिति के क्रमिक अनशन के 35 दिन पूरे हो गए हैं। समिति के सदस्य जिले में रेल लाइन निर्माण व संचालन की मांग कर रहे हैं। सदस्यों का कहना है कि पहाड़ की खुशहाली व विकास के लिए रेल लाइन का होना बहुत आवश्यक है।

मंगलवार को धरना स्थल पर मौजूद महासचिव खड़कराम ने कहा कि रेल के लिए उनकी लड़ाई कई सालों से चल रही है। लेकिन विभिन्न सरकारें इस ओर कोई ध्यान नहीं दे रही हैं। ऐसे में अनिश्चितकालीन अनशन का फैसला लिया गया है। ताकि जनता के सवालों पर एक हल निकाला जा सके। जिले को पलायन व बेरोजगारी से मुक्ति दिलाई जा सके। मंगलवार को धरने में लक्ष्मण ¨सह परिहार, आनंद बल्लभ तिवारी मौजूद रहे। उन्होंने कहा कि जिले में रेल लाइन का सपना वह आजादी के बाद से देख रहे हैं। लेकिन भाजपा और कांग्रेस की विभिन्न सरकारों ने अभी तक निराश किया है। ऐसे में लोकतांत्रिक तरीके से आंदोलन का रास्ता अपनाया गया है। ताकि पहाड़ के विकास को बल मिल सके। इस मौके पर जिलाध्यक्ष नीमा दफौटी, एडवोकेट गो¨वद ¨सह भंडारी, सरस्वती गैलाकोटी, पार्वती पांडे, मालती, गीता, डूंगर ¨सह आदि मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप