जागरण संवाददाता, बागेश्वर: कपकोट में रविवार की रात भर बारिश हुई। सिचाई विभाग ने 107 एमएम बारिश रिकार्ड की है। अतिवृष्टि से स्थानीय गधेरे और नदियां उफन गई। जिससे लोग भयभीत हो गए हैं। हालांकि अभी बड़े नुकसान की पुष्टि नहीं है। जबकि सात सड़कें आवागमन के लिए पूरी तरह बंद हो गई हैं। वहीं जिले के अन्य हिस्सों में बारिश की पिछले 24 घंटों में बूंद भी नहीं गिरी और उमस बढ़ गई है।

कपकोट के फरसाली क्षेत्र में सबसे अधिक बारिश हुई है। जिससे स्थानीय गधेरे उफन गए और सरयू नदी किनारे रहने वाले लोगों की रात दहशत में कटी। सरयू पूरे सवाब पर बह रही है। जबकि जिले के अन्य हिस्सों में बारिश नहीं होने से उमस में इजाफा हो गया है। सोमवार को दिन का तापमान 38 डिग्री सेल्सियस पहुंच गया और तेज धूप ने लोगों को परेशान किया। नगर और मुख्य बाजारों में सन्नाटा पसरा रहा। लोग गर्मी से बचने के लिए पंखे, कूलर और पेड़ों की छांव में बैठने को मजबूर रहे।

-----------

बारिश से सात सड़कें आवागमन के लिए बंद

कपकोट में हुई बारिश से भयूं-गडेरा मोटर मार्ग किमी दो, कपकोट-बघर किमी पांच, सूपी मोटर मार्ग किमी दो, धरमघर-माजखेत किमी नौ और तोली मोटर मार्ग किमी पांच में बंद हो गया है। स्थानीय लोगों के अनुसार सड़कों में भारी मात्रा में मलबा आया है।

-----------

कहां कितनी बारिश

बागेश्वर- शून्य, गरुड़-शून्य, कपकोट-107 एमएम।

-----------

नदियों का जलस्तर

सरयू- 866.40 गोमती-863.20, बैजनाथ झील-1115.60मीटर।

....

मौसम विभाग के अनुसार पांच और छह अगस्त को बारिश के आसार बताए गए हैं। सभी अधिकारियों को अलर्ट कर दिया गया है। अत्यधिक बारिश से हो रहे नुकसान का आंकलन क्षेत्रीय पटवारी कर रहे हैं।

-रंजना राजगुरु, डीएम, बागेश्वर

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप