संवाद सहयोगी, चौखुटिया: विकास खंड अंतर्गत ग्राम पंचायत बसरखेत के विद्युतीकरण से वंचित चल रहे दूर तोक गांव कन्याणी व बिनसर आजादी के 71 वर्षो बाद बिजली की रोशनी से जगमगा उठे हैं। इन गांवों के वाशिंदों को यह सौगात नवंबर के आखिर में मिली है। इससे ग्रामीणों को चेहरे खिल उठे हैं तथा उनका कहना है कि अब उन्हें रात को जंगली जानवरों से भी सुरक्षा मिल सकेगी।

विदित हो कि तड़ागताल क्षेत्र में बसरखेत ग्राम पंचायत के कन्याणी व बिनसर तोक गांव घने जंगलों के बीच बसे हैं। जहां करीब तीन दर्जन परिवार रहते हैं, लेकिन ये गांव बार बार मांग के बाद भी अभी तक बिजली की रोशनी से वंचित चल रहे थे। ग्रामीण रात को घुप अंधेरे में रहने को विवश थे। जंगली जानवरों के भय से ग्रामीण रात को जल्दी ही घरों में दुपक जाते रहे है। बशर्ते अभी पोल पूर्ण रूप से नहीं गाढ़े गए हैं, लेकिन अस्थायी व्यवस्था के अंतर्गत विभाग ने सिंगल फेस के जरिए नवंबर आखिर में बिजली की आपूर्ति कर दी है।

इससे गांवों में करीब 28 घर बिजली से रोशन हो गए हैं। सभी घरों में विभाग द्वारा मीटर भी लगा दिए हैं। इसके साथ ही ग्रामीणों में खुशी की लहर है तथा उनका कहना है कि बच्चों की पढ़ाई में मदद मिली है तथा रात को जंगली जानवरों से भी सुरक्षा मिल सकेगी। इसके लिए उन्होंने विभाग का धन्यवाद किया हे।

--------------------------

अस्थायी व्यवस्था के चलते खतरा भी

ग्रामीणों का कहना है कि ठेकेदार ने अभी तकविद्युत पोलों की गड़ाई सही तरीके से नहीं की है तथा कई स्थानों पर पोल खड़े किए जाने हैं। अस्थाई व्यवस्था से खतरा भी बना है। क्योंकि कई स्थानों पर बिजली के तार झूल रहे हैं तथा पक्की व्यवस्था न होने से समस्या उत्पन्न हो सकती है। ग्रामीण पूरन सिंह, त्रिलोक सिंह, कुंदन सिंह व प्रताप सिंह आदि ने शीघ्र लाइन को पक्की करने की मांग की है।

------------------------

तोक गांव बिनसर के 12 परिवार व कन्याणी में 16 घरों में मीटर लगाकर क्रमश: गत 29 नवंबर व 26 नवंबर को विद्युत संयोजन कर दिया गया है। सिंगल फेस के जरिए अभी यह अस्थाई व्यवस्था की गई है। पक्का निर्माण कार्य प्रगति पर है तथा शीघ्र ही कार्य पूर्ण करा लिया जाएगा।

-नीरज थापा अवर अभियंता चौखुटिया सब स्टेशन

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस