मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

संवाद सहयोगी, रानीखेत : अल्मोड़ा व नैनीताल जनपद के दूर गावों को जोड़ने के लिए बहुप्रतीक्षित कुजगढ़ पुल का निर्माण कार्य अंतिम दौर में पहुंच गया है। सेतु को 15 अगस्त तक खोले जाने के मकसद से विभागीय अधिकारियों ने स्थलीय निरीक्षण कर प्रगति की समीक्षा की।

रानीखेत खैरना स्टेट हाईवे के पास कुजगढ़ नदी पर दो वर्ष पूर्व करीब 13 करोड़ रुपये की लागत से 80 मीटर स्पान के मोटर पुल का निर्माण शुरू हुआ था। धीमी गति पर लोग मुखर हुए थे। एनएच ने ठेकेदार को नोटिस भी भेजा। इधर पुल के निर्माण कार्य ने तेजी पकड़ ली है। सोमवार को एनएच अधिकारियों ने निर्माणाधीन पुल का जायजा लिया। डिजाइन, सेतु पर रैंप के लिए बिछी सरिया व स्लैब डालने की तैयारी को परखा। संबंधित कार्यदायी एजेंसी को गुणवत्ता के निर्देश दिए। विभागीय अधिकारियों के अनुसार 15 अगस्त तक पुल पर वाहन दौड़ने लगेंगे। निरीक्षण के दौरान सहायक अभियंता एलएम तिवारी, अपर सहायक अभियंता विनोद कुमार, अवर अभियंता पीके तिवारी आदि मौजूद रहे।

==================

जागरण की पहल लाइ रंग

वर्ष 1993 में कुजगढ़ नदी पर बने पुल के बह जाने के बाद 'दैनिक जागरण' ने पुल निर्माण का मुद्दा लगातार प्रमुखता से उठाया। ग्रामीण भी मुखर हुए और अब जागरण की पहल व जनादोलन रंग लाने लगा है।

==================

अब अलग थलग नहीं पड़ेंगे गाव

बरसात में कुजगढ़ नदी रौद्र रुप ले लेती है। ऐसे में आठ दस गावों का सीधा संपर्क खत्म हो जाता है। सेतु बनने से बड़ा लाभ होगा।

===========

ये गाव जुड़ेंगे सीधे

= ईनाड़, मुसोली, चापड़, मंडलकोट, नौघर, बिल्लेख, हिडा़म, च्यूनी, बलयाली (ताड़ीखेत ब्लॉक)

= धारी, हल्सों, खैरनी, वधरें, नैनीचैक, रतौड़ा, तिवाड़ीगाव, बेतालघाट आदि।

==================

'मौसम ने साथ दिया तो बुधवार तक स्लैब डालने का कार्य पूरा कर लेंगे। गुणवत्ता पर खास ध्यान दिया जा रहा। 15 अगस्त तक पुल तैयार करने का लक्ष्य है।

-एलएम तिवारी, सहायक अभियंता, एनएच'

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप