संवाद सहयोगी, अल्मोड़ा : 'पेट्रोल प्रकरण' पर प्रतिष्ठित एसएसजे परिसर में गुरुजनों व छात्र नेताओं के बीच खाई पाटने के लिए जांच कमेटी की पहल पर शांति वार्ता के दौरान शिक्षकों ने सुरक्षा मांगी तो छात्रों ने माफी। वहीं, छुट्टी पर भेजे गए परिसर निदेशक प्रो. आरएस पथनी व छात्र संघ अध्यक्ष दीपक उप्रेती नहीं पहुंचे।

अलबत्ता, कमेटी ने अन्य छात्र संघ पदाधिकारियों व गुरुजनों के साथ गहन मंत्रणा की। छात्र नेताओं को अनुशासन व गुरुओं के सम्मान का पाठ पढ़ाया गया तो गुरुजनों से गुस्सा शांत करने की मनुहार। इस पर छात्र नेताओं ने पूरे घटनाक्रम को शर्मनाक बता क्षमायाचना की। वहीं गुरुजनों ने सुरक्षा सुनिश्चित करने की बात रखी। बहरहाल, दोनों तरफ से सौहार्द का माहौल बनाने के संकेत भी मिले।

एसएसजे परिसर की साख पर लगा दाग धोने के लिए कुलपति के निर्देशन में गठित जांच कमेटी छात्र संघ व गुरुजनों के बीच सौहार्द कायम करने के लिए सोमवार को कैंपस पहुंची। समिति संयोजक एवं कुमाऊं विवि परिषद सदस्य केवल सती ने पहले छात्र संघ पदाधिकारियों के साथ बैठक की। अध्यक्ष दीपक इसमें नहीं पहुंचे। महासचिव नवीन कनवाल, उपाध्यक्ष अरविंद बोहरा, उपाध्यक्षा मेघा डसीला, उपसचिव दीपक तिवारी, कोषाध्यक्ष राहुल अधिकारी मौजूद रहे।

=============== मांगें तर्कसंगत रखें छात्रनेता : सती समिति संयोजक केवल सती ने छात्र नेताओं से कहा कि ऐसी मांगें न रखें, जो उपयोगी न हों। पंखे लगवाने और अब रूम हीटर का मुद्दा उन्होंने औचित्यहीन बताया। कहा कि बच्चों का कॅरियर कैसे संवरे इस पर फोकस करें। नसीहत दी कि बाहर घूम रहे बच्चों को कक्षाओं में पढ़ने के लिए कहें।

=============

नहीं होगी पुनरावृत्ति : महासचिव छात्र संघ महासचिव नवीन कनवाल व अन्य नेताओं ने घटना को शर्मनाक बताया। माना कि चूक हुई है। गुरुजनों से क्षमा चाहते हैं। अहसास है कि गुरुजन नाराज हैं। भविष्य में पुनरावृत्ति नहीं होगा, इसका वादा किया।

===========

गुरुजन बोले, दु‌र्व्यवहार से हैं आहत छात्र नेताओं के बाद समिति ने प्रॉक्टर व डीएसडब्ल्यू बोर्ड सदस्यों के साथ मंत्रणा की। प्राध्यापकों ने कहा, गुरुजन आहत हैं। असुरक्षा महसूस कर रहे। नारेबाजी के दौरान गुरुजनों के लिए अपशब्द तक कहे गए। समिति संयोजक केवल सती ने भरोसा दिलाया कि छात्रनेता गलती मान क्षमायाचना कर रहे हैं। कहा कि कैंपस की साख बनी रहे, माहौल बेहतर बने, इसमें गुरुजनों का योगदान अहम है। यह भी आश्वस्त किया कि कैंपस में गुरु शिष्य परंपरा अब नहीं टूटने दी जाएगी। प्राध्यापकों ने कहा कि परीक्षा कैलेंडर जारी होने के बावजूद परीक्षाएं स्थगित कराई जा रही। इस पर कुलपति से बात करने का भरोसा दिला छात्र नेताओं की अनुशासनहीनता के खिलाफ दिए गए इस्तीफे वापस लेने का भी आग्रह किया गया। इस मौके पर प्रो. एसपीएस मेहता, प्रो. बीएस बिष्ट, डॉ. डीके भट्ट के साथ ही संयुक्त निदेशक प्रो. जगत सिंह बिष्ट आदि मौजूद रहे।

=================

वर्जन

'पता लगा निदेशक प्रो. पथनी जी नैनीताल में हैं। छात्र संघ अध्यक्ष भी कहीं गए थे। छात्र संघ के अन्य पदाधिकारियों ने गलती मानी है। वादा किया है कि दोबारा ऐसी अनुशासनहीनता नहीं होगी। वहीं प्राध्यापकों को भी हमने आश्वस्त किया है कि गुरुजनों की भावनाएं आहत नहीं होनी दी जाएंगी। कुल मिलाकर छात्र नेताओं व गुरुजनों ने परिसर की तरक्की व सम्मान को सौहार्द का माहौल बनाने की बात कही।

-केवल सती, जांच समिति संयोजक व कुमाऊं विवि कार्यपरिषद सदस्य'

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस