संवाद सहयोगी, द्वाराहाट : युवाओं में बढ़ती नशे की प्रवत्ति्त रोकने तथा नशे होने होने वाले नुकसान के लिए विकासखंड के विभिन्न विद्यालय में व्यसन मुक्त अभियान चलाया गया। इस दौरान विद्यार्थियों को नशे से दूर रहने की शपथ दिलाई गई। साथ ही समाज में फैली बुराइयों के प्रति लोगों को जागस्क करने का आह्वान किया गया।

शैक्षिक एवं सामाजिक संस्था पारस के तत्वावधान में नशे के खिलाफ जागस्कता अभियान चलाया गया। विकासखंड के छह विद्यालयों के 1645 विद्यार्थियों को नशा न करने तथा व्यसन मुक्त समाज निर्माण में भागीदारी की शपथ दिलाई। पारस संस्था अध्यक्ष व राज्य पुरस्कार प्राप्त सेवानिवृत्त शिक्षक कुबेर कड़ाकोटी ने युवाओं में बढ़ रही नशे की प्रवृति पर चिंता जताई। कहा कि छात्र व्यसन मुक्त जीवन का संकल्प के आगे बढ़ेंगे तो सफलता निश्चित है। बताया कि अभी तक 45 हजार से अधिक विद्यार्थियों को नशा न करने के लिए संकल्पित किया जा चुका है। अभियान भविष्य में भी जारी रहेगा। संयोजक गिरीश चंद्र भट्ट ने बच्चों को समाज की आत्मा बताया। कहा कि उन्हें बुरी आदतों से बचाकर ही अच्छे समाज व उन्नत राष्ट्र की कल्पना की जा सकती है। विभिन्न विद्यालयों के प्रधानाचायरें हेम कबडवाल, खजान चंद्र जोशी, नवीन चंद्र मैनाली, मदन मोहन, पुष्पा नेगी व गिरीश तिवारी ने संस्था के प्रयासों की सराहना कर विद्यार्थियों से अभियान से जुड़ने का आह्वान किया।

Posted By: Jagran