दीप सिंह बोरा, अल्मोड़ा

कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी जुदा अंदाज में दिखे। केंद्र पर तीखे लेकिन शालीन प्रहार के चलते उनकी छवि अल्मोड़ा में सोशल मीडिया पर बनी उनकी छवि से अलग नजर आई। 23 मिनट के संबोधन में उन्होंने बेरोजगार युवाओं की दुखती रगों पर हाथ रखा। कर्ज माफी की बात कह उन्होंने गरीब, किसान व श्रमिक वर्ग के मर्म को भी छुआ। राहुल ने अल्मोड़ा से गांधी परिवार के पुराने रिश्तों की याद दिला जनता से भावनात्मक रिश्ता जोड़ने की भी कोशिश की।

अल्मोड़ा में अपनी पहली चुनावी सभा में राहुल गांधी ने अपना भाषण ज्वलंत मुद्दों के इर्दगिर्द ही रखा। राफेल पर केंद्र की घेराबंदी से इतर उन्होंने जनसभा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रत्येक गरीब के खाते में 15 लाख रुपये भेजने का वादा याद दिला खासतौर पर युवा बेरोजगारों को अपने पक्ष में करने की कोशिश की। यही नहीं कांग्रेस के घोषणापत्र में हर गरीब के खाते में 72 हजार रुपये कैसे आएंगे, इसका गणित समझा कर राहुल ने खुद को साबित करने का प्रयास भी किया। उन्होंने राजस्थान, मध्यप्रदेश व झारखंड में किसानों की कर्जमाफी का हवाला देते हुए संदेश दिया कि राजनीतिक इच्छाशक्ति हो तो बहुत कुछ किया जा सकता है। और कांग्रेस कर सकती है।

=====================

अ‌र्द्धसैनिक बलों में पैठ की जुगत

किसान, गरीबी, बेरोजगारी के साथ ही कांग्रेस अध्यक्ष राहुल ने उन हजारों अ‌र्द्धसैनिक बलों के अधिकारियों व जवानों के बीच भी गहरी पैठ बनाने की कोशिश की जो अरसे से भारतीय सैनिकों की भांति सम्मान का दर्जा पाने को छटपटा रहे हैं। उत्तराखंड सैनिक बहुल प्रदेश है इसीलिए भी राहुल का यह दांव घोषणापत्र के माध्यम से बाहर निकला। उन्होंने कहा कि हम सत्ता में आए तो बीएसएफ, सीआरपीएफ समेत सभी पैरामिलिट्री फोर्स के बलिदानों जांबाजों को भी शहीद का दर्जा दिलाएंगे। मनरेगा के बहाने उन्होंने मजदूर वर्ग को भी साधा।

==================

ये रहे मौजूद

प्रदेश प्रभारी अनुग्रहनारायण सिंह, सहप्रभारी राजेश धर्माणी, उपनेता करन सिंह माहरा, विधायक गोविंद सिंह कुंजवाल व हरीश धामी, राष्ट्रीय सचिव प्रकाश जोशी, युकां प्रदेश अध्यक्ष विक्रम रावत, पूर्व विधायक मदन सिंह बिष्ट, मनोज तिवारी व ललित फस्र्वाण, जिपं अध्यक्ष पार्वती मेहरा, पालिकाध्यक्ष प्रकाश जोशी, ब्लॉक प्रमुख भैसियाछाना हरीश बनौला, गंगा पंचोली, जिलाध्यक्ष पीतांबर पांडे, नगर अध्यक्ष पूरन रौतेला, किरन डालाकोटी, हीरा रावत, चंदन बिष्ट, सिकंदर पवार, हरगोविंद बोहरा, भगीरथ भट्ट, राजेंद्र बाराकोटी, दीवान सतवाल, दीप डांगी, मदन डांगी, बिंदु रौतेला, महिपाल मलवाल, दान सिंह नेगी, पारितोष जोशी, प्रीति बिष्ट, लता तिवारी, राधा बिष्ट, गीता मेहरा, राधा बंगारी, दीपा त्रिपाठी, दीपक मेहता, भानू जोशी आदि।

Posted By: Jagran