जागरण संवाददाता, अल्मोड़ा : पेटशाल के दसौं गांव में सगे भाई व उसके परिजनों पर तेजाब से हमला करने वाले रघुनाथ ¨सह की भी हालत गंभीर है। सोमवार की शाम लगभग 6 बजे हुई घटना के बाद उसे बेस अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जहां उसको डाक्टरों ने देखने के बाद गंभीर हालत देखते हुए हल्द्वानी रेफर कर दिया। वहीं जिला अस्पताल में बड़े भाई शेर ¨सह व उसके परिजनों को भर्ती कराया गया था। इनमें से नीमा देवी व जया देवी की हालत गंभीर पाए जाने पर रात में ही हल्द्वानी के लिए इनको भी रेफर किया गया।

तेजाब हमले में चेहरे पर पड़े तेजाब से घायल हुए बड़े भाई शेर ¨सह ने बताया कि आरोपित रघुनाथ ¨सह नशे का आदी है। वह आए दिन परिवार वालों के साथ मारपीट व गाली-गलौज करता था। बीती मई में भी उसने हमला कर कर दिया था। इसमें उसके हाथ व पैरों में चोटें आई थीं। मामले की रिपोर्ट भी थाने में दर्ज कराई गई। इसके बाद भी उसकी गतिविधियों में कोई सुधार नहीं हुआ। शेर ¨सह ने बताया कि तीन साल पहले भी वह हमला बोल चुका है। इसकी इन आदतों से सभी परेशान हैं। गांव में भी उसका मेलजोल किसी परिवार से नहीं है। घटना वाले दिन भी परिवार वालों से किसी प्रकार का विवाद नहीं हुआ। वह बड़ी पिपिया में तेजाब लेकर आया और सीधे हमला बोल दिया। खुद पर भी उसने आधे से अधिक तेजाब डाला। बाकी तेजाब से पोते, पोतियों, पत्नी व बहू पर हमला बोलकर बुरी तरह झुलसा दिया। वक्त पर बीच-बचाव लोग न करते तो स्थिति काफी गंभीर होती। इस तेजाबी हमले में नीमा देवी व जया देवी की हालत गंभीर होने पर हल्द्वानी तत्काल जिला अस्पताल से डाक्टरों ने रेफर किया। वहीं बेस अस्पताल पहुंचे आरोपित रघुनाथ ¨सह की भी हालत गंभीर दिखने पर हल्द्वानी के लिए रेफर किया गया। सीएमएस डॉ. प्रकाश वर्मा ने बताया कि हालत में सुधार होने पर मामूली तौर पर घायल बच्चे किरन चम्याल, हरीश चम्याल, चांदनी चम्याल व पत्नी मोहिनी देवी को घर भेज दिया गया है।

..........

इतनी मात्रा में तेजाब पहुंचा कैसे, प्रशासन कर रहा जांच

घटना में प्रयोग किए गए इतनी बड़ी मात्रा में तेजाब रघुनाथ ¨सह के पास कैसे पहुंचा। इसको लेकर प्रशासन के अधिकारियों में हड़कंप मचा हुआ है। क्योंकि तेजाब का बिनी अनुमति के बिक्री व भंडारण करने में शासन ने रोक लगा रखी है। फिर सवाल यह है कि आरोपी ने किस उद्देश्य से इतनी मात्रा में तेजाब कहां से खरीदा था। एडीएम केएस टोलिया ने बताया कि मामले की जांच एसडीएम सदर कर रहे हैं। तेजाब की बिक्री में पहले ही प्रतिबंध है। ऐसे में यह जांच का विषय है कि इतनी बड़ी मात्रा में तेजाब की खरीद आरोपी ने किस लाइसेंसधारक दुकानदार या दूसरे से खरीदी।

Posted By: Jagran