संवाद सहयोगी, चौखुटिया: नए परिसीमन में खत्म किए गए मासी जिला पंचायत सदस्य सीट को बहाल करने को लेकर आपत्तियां दर्ज करने के बावजूद इस दिशा में कोई कार्रवाई न होने से मासी क्षेत्र के पूर्व पंचायत प्रतिनिधि व ग्रामीण भड़क उठे हैं। उन्होंने सर्व दलीय संगठन के बैनर तले सोमवार को यहां विकास खंड मुख्यालय में विरोध प्रदर्शन कर नारेबाजी की तथा मुख्यमंत्री के नाम खंड विकास अधिकारी को एक ज्ञापन सौंपा। इस दौरान वक्ताओं ने सीट बहाल न होने पर आंदोलन का एलान किया।

त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के अंतर्गत हुए नए परिसीमन में मासी जिला पंचायत सदस्य सीट को समाप्त कर दिया गया है। इसमें पूर्व से शामिल गांवों को अब बैरती व नागाड़ जिला पंचायत सदस्य सीटों में सम्मलित कर देने से ग्रामीण नाराज हैं। आपत्तियां दर्ज करने के बाद भी कोई सुनवाई न होने से आक्रोशित प्रतिनिधियों व सामाजिक संगठनों से जुड़े लोगों ने विकास खंड मुख्यालय पहुंचकर विरोध प्रदर्शन किया। पंचायत विभाग व प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी कर अपनी आवाज बुलंद की।

वक्ताओं ने मासी सीट का वजूद समाप्त किए जाने पर कड़ी आपत्ति जताते हुए इसके खिलाफ न्यायालय में जाने की धमकी भी दे डाली। यह भी ऐलान किया कि चक्का जाम जैसे कदम उठाने से भी पीछे नहीं हटेंगे। ज्ञापन में कहा है कि मासी सीट सभी मानकों को पूर्ण करता है, लेकिन सीट का वजूद समाप्त कर देना सरासर अनुचित व लोगों के साथ अन्याय है। इससे मासी का समूचा क्षेत्र विकास की मुख्य धारा से कट जाएगा। परिसीमन से पूर्व प्रतिनिधियों को कोई जानकारी नहीं दी गई। ज्ञापन में सीट के वजूद को पुन: बहाल करने की मांग की गई है।

-------------------------------

इन्होंने की कार्यक्रम में भागीदारी

गोपाल मासीवाल, महेश लाल वर्मा, भगवत सिंह रावत, कृष्णा राठौर, चंद्र प्रकाश, खीमानंद, खुशाल सिंह, शंकर सिंह, महेश बिष्ट, पूरन सिंह बिष्ट, कांता रावत, विनोद कुमार, हरीश उपाध्याय, शंकर सिंह बिष्ट, गोपाल दत्त, देवतला, विजय गोरखा, चंदन सिंह बिष्ट, हिमांशु भंडारी, शंकर दत्त, गिरधर फुलोरिया, दर्शन फुलोरिया व सुरेंद्र बाबा आदि।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप