संवाद सहयोगी, धौलछीना (अल्मोड़ा) : ग्राम सभाओं की एसआइटी जांच का विरोध कर रहे ग्राम प्रधानों ने उनकी मांग पर कार्रवाई न होने पर मनरेगा समेत विकास खंड के सभी कार्यो का बहिष्कार शुरू कर दिया है। प्रधानों ने कहा है कि वह सरकार की जनविरोधी नीति को किसी कीमत पर बर्दाश्त नहीं करेंगे।

शनिवार को एसआईटी जांच के निर्णय को वापस लेने की मांग को लेकर ग्राम प्रधानों ने ब्लॉक मुख्यालय पर प्रदर्शन किया। इस मौके पर ग्राम प्रधानों ने कहा कि पंचायती राज मंत्री का यह आदेश बिल्कुल औचित्यहीन है। लेकिन इसके बाद भी सरकार प्रधानों की मांग पर कोई कार्रवाई नहीं कर रही है। संगठन के अध्यक्ष जगदीश चंद्र पांडे ने कहा कि सरकार को जिला प्लान, जिला पंचायत, विधायक व सांसद निधि जैसे खातों की जांच करानी चाहिए थी। लेकिन ग्राम सभाओं की जांच कराकर वह ग्राम प्रधानों की भावनाओं को आहत करने का काम कर रही है। ग्राम प्रधानों ने कहा है कि जब तक उनकी मांग पर कार्रवाई नहीं होगी। तब तक वह मनरेगा और विकास खंड के सभी कार्यो का बहिष्कार करेंगे। प्रदर्शन कार्यक्रम में जगत सिंह वाणी, हयात सिंह, पुष्पा देवी, हेमा पांडे, चंपा देवी, शांति देवी, सुनीता देवी, सुषमा बोरा समेत अनेक ग्राम प्रधान मौजूद रहे।

Posted By: Jagran