संवाद सहयोगी, दन्यां: मात्र एक बार चुनकर सदन में पहुंचे सांसदों और विधायकों को तो सरकार पुरानी पेंशन प्रदान कर रही है परंतु कर्मचारियों को पेंशन लाभ से वंचित रखते हुए उन्हें और उनके परिवार को अनावश्यक टेंशन दे रही है। पुरानी पेंशन बहाली तक अब राज्य कर्मचारी अपना आंदोलन जारी रखेंगे।

यह बात पुरानी पेंशन बहाली मंच के प्रदेश अध्यक्ष रघुवीर सिंह बिष्ट ने दन्यां स्थित रामलीला मैदान में कर्मचारियों की विशाल जनसभा को सम्बोधित करते हुए कही। बिष्ट ने कहा कि एमपी और एमएलए तो पुरानी पेंशन का लाभ ले रहे हैं और सरकार कर्मचारियों के हितों के साथ कुठाराघात कर रही है। उन्होंने कर्मचारियों को पेंशन लाभ से वंचित रखने को सरासर अन्याय बताते हुए संघर्ष जारी रखने की चेतावनी दी है। प्रदेश उपाध्यक्ष डा. रवीन्द्र सिंह ने कहा कि हमारी सरकारें कर्मचारियों के साथ घोर अन्याय करने पर तुली हुई हैं। उन्होंने कर्मचारियों के भविष्य के साथ खिलवाड़ बताते हुए अपने हितों के लिए संघर्ष करने का आह्वान किया। सभा को जिलाध्यक्ष गणेश भंडारी, ब्लाक अध्यक्ष योगेंद्र रावत, मंत्री नीतेश कांडपाल, जिलामंत्री भूपाल चिलवाल, पुष्कर भैसोड़ा आदि ने सम्बोधित किया। इस अवसर पर धीरेंद्र पाठक, राधा लसपाल, डीके जोशी, उमा गैड़ा, भूपेश पाण्डे, महेश पंत, सुशील तिवारी, खुशाल महर, जीवन साह, त्रिभुवन चौधरी, किरन रावत, त्रिभुवन बिष्ट, मनोज बिष्ट, सुरेश जोशी, हरीश आदि सैकड़ों कर्मचारियों ने रैली के संचालन में सहयोग दिया। सभा की अध्यक्षता योगेंद्र रावत ने की और संचालन राजू महरा ने किया। सभा के समापन के बाद रामलीला मैदान से जीजीआईसी परिसर तक विशाल रैली निकालते हुए सरकार को चेताने वाले नारों लगाते हुए कर्मचारियों ने रोष जताया। रैली में शिक्षा, स्वास्थ्य, राजस्व, तहसील, कृषि आदि विभागों के सैकड़ों कर्मचारी शामिल हुए।

Posted By: Jagran