संवाद सहयोगी, रानीखेत : गांधी चौक देर रात आधा घंटे तक अराजकता के हवाले रहा। सेना की भर्ती रैली में हल्द्वानी से पहुंचे युवकों ने नशे में न केवल हंगामा काटा। बल्कि आपस में ही भिड़ भी गए। दो गुटों में बंटे युवकों के बीच खूब लात घूंसे चले। एक युवक को गिरागिरा कर पीटा गया। पुलिस पहुंचने पर उपद्रवी भाग निकले। खाकी पर रौब झाड़ रहे लड़के को पुलिस वाहन में उठा ले गई। हालांकि बाद में कड़ी चेतावनी देकर छोड़ दिया गया।

मामला बीती देर रात का है। पर्यटन सीजन के मद्देनजर होटल व धर्मशाला में कमरे न मिलने के कारण भर्ती में आए कुमाऊं, गढ़वाल व गोरखा मूल के नौजवान इधर उधर भटक रहे थे। पहले दिन दौड़ में बाहर हो चुके हल्द्वानी के कुछ युवक घर लौटने के बजाय शराब पीकर बाजार में हंगामा काटने लगे। हो हल्ले के बीच नशे में धुत ये लोग आपस में ही भिड़ गए। कुछ ही देर में युवक दो गुटों में बंट गए।

एक पक्ष ने दूसरे गुट के युवक को बुरी तरह पीटना शुरू कर दिया। माहौल बिगड़ने पर किसी ने कोतवाली में सूचना दे दी। पुलिस कर्मी मौके पर पहुंचे। इस पर युवक भाग निकले। एक को पुलिस ने पकड़ लिया। उसे वाहन में बैठा कोतवाली ले जाया गया। एसएसआइ धीरेंद्र पंत ने हालांकि कड़ी चेतावनी दे सीधा हल्द्वानी लौटने की नसीहत दे छोड़ दिया।

===============

चाचा डीआईजी हैं, लाठी कैसे मारी

मारपीट के दौरान पहुंचे पुलिस कर्मियों ने अराजकता पर आमादा युवकों को डराने के लिए लाठियां हल्की लाठियां फटकारी। एक गुट का मुखिया बने नशे में धुत युवक के लाठी लगने पर उल्टा खाकी से ही उलझ गया। उसने खुद को डीआईजी का भतीजा बता पूछने लगा कि लाठी कैसे मारी। इस पर पुलिस कर्मी उसे वाहन में बैठा कोतवाली उठा ले गए।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप