संवाद सहयोगी, रानीखेत : पहाड़ में एकाएक मौसम का मिजाज बिगड़ने से अतिवृष्टि के बीच देवदार के विशाल पेड़ पर आकाशीय बिजली गिर गई। इससे वृक्ष कई टुकड़ों में बंट गई वहीं विद्युत लाइन भी क्षतिग्रस्त हो गई। इससे क्षेत्र के कई गांवों में विद्युत आपूर्ति भंग हो गई। करीब 16 घंटे बाद आपूर्ति बहाल होने पर लोगों ने राहत की सांस ली।

गुरुवार को दिन में खिली धूप के बाद रात में अचानक तेज बारिश के साथ कई स्थानों पर आकाशीय बिजली गिरी। मजखाली अल्मोड़ा हाईवे पर द्वारसौं स्थित गोलू मंदिर के निकट देववृक्ष देवदार में आकाशीय बिजली गिरी, जिससे पेड़ हाईवे पर आ गिरा। जिससे हाईवे बंद हो गया। रात में खटीमा से अपने पैतृक गांव द्वारसौं आ रहे किशोर सिंह राणा व संजय राणा ने बमुश्किल पेड़ को हाईवे पर हटाया। तब जाकर वाहन आगे जा सका। इधर आकाशीय बिजली गिरने से मजखाली, क्वैराला, द्वारसौं, बबुरखोला, मछलिया, उरोली, मनबजूना, खौड़ी समेत 20 से ज्यादा गांवों की बत्ती करीब 16 घंटे गुल रही।

--

आकाशीय बिजली गिरने से घिंघारीखाल के जंगल में विद्युत पर लगे इंसोलेटेड पिन फट गई थी। जिससे विद्युत आपूर्ति ठप हो गई। शुक्रवार को फाल्ट ठीक कर लिया गया है। सभी गांवों में आपूर्ति बहाल कर दी गई है।

- प्रवेश कुमार, एसडीओ विद्युत

Posted By: Jagran