मानिला (रानीखेत): सल्ट ब्लॉक के कटपतिया बस हादसे के बाद बदहाल स्वास्थ्य सेवा की हकीकत फिर सामने आ गई। इस पर घायलों के परिजनों ने अस्पताल में हंगामा शुरू कर दिया। दरअसल, सीएचसी देवायल में भर्ती पाच घायलों को गंभीर चोट के मद्देनजर पहले रेफर कर दिया गया था। बाद में शेष आठ घायलों को भी बेहतर चिकित्सा के मकसद से रेफर तो किया गया मगर उन्हें हायर सेंटर तक ले जाने के लिए एक अदद एंबुलेंस तक नसीब न हो सकी। लचर स्वास्थ्य सेवा से नाराज घायलों के परिजनों ने सीएचसी में हंगामा काटा। माहौल गरमाने पर एसओ विशन लाल पुलिस कर्मियों के साथ पहुंचे। गुस्साए लोगों को समझाने का प्रयास किया। मगर लोग नहीं माने। उनका कहना था कि दो घटे से वह परेशान हैं। घायलों को हायर सेंटर ले जाने की व्यवस्था तक नहीं है। इससे उनकी जान का जोखिम बढ़ सकता है। बाद में एसडीएम अभय प्रताप अस्पताल पहुंचे। घायलों को रामनगर भेजने की व्यवस्था बनाई। आपातकालीन 108 सेवा दो घटे बाद पहुंची लेकिन तीन घायलों को ही ले जा सकी। बाद में प्राइवेट वाहनों से घायल रामनगर भेजे जा सके।

=============

बस चालक को काशीपुर ले गए परिजन

उधर रामनगर चिकित्सालय रेफर किए गए चालक व बस स्वामी नंदन सिंह को परिजन काशीपुर ले गए। लहूलुहान चालक हादसे के बारे में कुछ भी बताने की स्थिति में नहीं था। हालाकि तेज रफ्तार को दुर्घटना की वजह बताया जा रहा।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप