संवाद सहयोगी, द्वाराहाट : राजकीय बालिका इंटर कॉलेज की राष्ट्रीय सेवा योजना (एनएसएस) शिविरार्थियों ने नायाब पहल की शुरुआत की है। छात्राओं ने घुमंतु समुदाय के लोगों के बीच जाकर अक्षर ज्ञान से वंचित नौ बच्चों को अक्षर बोध कराने का संकल्प लिया। साथ ही नगर क्षेत्र में अभियान चलाकर शिक्षा, स्वच्छता तथा मतदान के प्रति जागरूक होने रहने का आह्वान किया।

जीजीआईसी के एनएसएस का सात दिवसीय विशेष शिविर के दौरान शिविरार्थियों ने रैली व पारंपरिक झोड़ों के माध्यम से समाज में फैली बुराईयों पर कटाक्ष किए। इस दौरान उन्होंने जनचेतना रैली के माध्यम से लोगों को स्वच्छ भारत अभियान तथा मतदान के प्रति सकारात्मक सोच विकसित करने का आह्वान किया। बाद में शिविरार्थियों नगर क्षेत्र में टेंट निर्माण कर निवास कर रहे घुमंतु समुदाय के परिवारों के बच्चों की शिक्षा का हाल जाना। इन परिवारों के नौ बच्चे अक्षर ज्ञान से वंचित पाए गए। इस पर छात्राओं ने प्रत्येक रविवार तथा अवकाश के दिन इन अशिक्षित बच्चों को अक्षर बोध करवाने का संकल्प लिया।

बौद्धिक सत्र के दौरान बाल विकास परियोजना अधिकारी चमोली राजेंद्र प्रसाद, राज्यपाल पुरस्कार प्राप्त शिक्षक जेपी तिवारी तथा निदेशक कुमाऊं पब्लिक स्कूल पीएस राणा ने छात्राओं को प्रतियोगी परीक्षाओं में सफलता अर्जित करने को टिप्स दिए। इसके अलावा प्रशासनिक परीक्षाओं की तैयारी, जैव विविधता की जानकारी दी। कार्यक्रम अधिकारी डॉ. नीलम सैनी ने शिविर के दौरान की जा रही गतिविधियों का लेखाजोखा रखा। इस दौरान डॉ. अमिता प्रकाश, अनीता कोठारी आदि मौजूद रही।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस