जागरण टीम, रानीखेत/ गरमपानी : कोसी घाटी स्थित एसबीआइ की खैरना शाखा के एटीएम से रुपया निकालने पहुंचा पूर्व सैनिक 'एटीएम हैकरों' का शिकार हो गया। शातिर हैकरों ने रुपया निकालने में उसकी मदद का झांसा देकर एटीएम कार्ड बदल लिया। फिर फौजी के वहां से हटते ही उसके एटीएम से 44 हजार रुपये निकाल लिए।

मंडलकोट (ताड़ीखेत) निवासी पूर्व सैनिक भगत सिंह चार दिन पूर्व अंतरजनपदीय सीमा पर स्थित एसबीआइ शाखा के अपने खाते से रुपया निकालने पहुंचा। तब एटीएम के पास काफी भीड़ थी। किसी कारणवश उसके रुपये नहीं निकल सके। इस पर वहा पहले से ही मौजूद चार युवकों में से एक ने उसे मदद के लिए पूछा। पूर्व फौजी ने भरोसा कर एटीएम संदिग्ध युवक को थमा दिया। इसी दौरान अपना गुप्त कोड मशीन में फीड किया। पीछे खडे़ युवकों ने गुप्त कोड पर नजर रखी और नोट कर लिया। फिर पूर्व सैनिक को झांसे में ले एटीएम कार्ड बदल करदूसरा थमा दिया। बहरहाल, पूर्व सैनिक रुपये निकलने के बाद युवकों को धन्यवाद बोल चले गए। मगर 'एटीएम हैकरों' ने भगत सिंह के वहां से हटते ही उसके खाते से उसी के एटीएम से बड़ी रकम पार कर ली।

इधर भगत सिंह दूसरे दिन रानीखेत स्थित एसबीआइ शाखा में स्पये निकालने पहुंचे तो पता लगा कि एटीएम उनका नहीं है। जांच की गई तो मालूम पड़ा कि पूर्व सैनिक के खाते से 44 हजार रुपये निकाले जा चुके हैं। आनन फानन में बैंक अधिकारियों ने फौजी का एटीएम बंद कर दिया। पीड़ित ने रानीखेत कोतवाली व खैरना चौकी में तहरीर दे दी है। जांच शुरू कर दी गई है।

===================

'घटना की सूचना मिली है। बैंक के सीसीटीवी से फुटेज खंगाली जा रही है। शुरुआती जाच में बाहरी युवकों के घटना में शामिल होने की पुष्टि हो रही है। जल्द घटना का खुलासा कर दिया जाऐगा।

- देवेंद्र सिंह बिष्ट, चौकी प्रभारी खैरना'

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस