संवाद सहयोगी, रानीखेत : 14 दिन का क्वारंटाइन पूरा करने के बाद दिल्ली व देहरादून से आए प्रवासी युवकों ने गाव पहुंचते ही अराजकता शुरू कर दी। प्रवासियों युवक राजस्व उपनिरीक्षकों के साथ अभद्रता पर उतारु हो गए। मामले में एक स्थानीय युवक भी शामिल रहा। प्रवासियों के गाव में अराजकता फैलाने से ग्रामीणों में भी गहरा रोष व्याप्त है।

राजस्व उपनिरीक्षक डीड़ा एमएस रावत व राजस्व उपनिरीक्षक मल्ली रियूनी नितिन जिरवान बबरखोला गाव में गश्त पर थे कि तभी तीन युवक उन्हें घूमते मिले। युवकों को टोकने पर शराब के नशे में धुत लोग राजस्व उपनिरीक्षकों से भिड़ गए। गाली-गलौज के साथ ही अभद्रता पर उतारू हो गए। एक प्रवासी खुद के रेंजर होने का हवाला दे रौब झाड़ने लगा। सूचना नायब तहसीलदार दलीप सिंह को दी गई। नायब तहसीलदार ने मुख्यालय से राजस्व उपनिरीक्षक महेंद्र रावत व देवेंद्र बिष्ट के नेतृत्व में राजस्व पुलिस को मौके पर भेजा। तीनों युवकों को तहसील लाया गया। मंगलवार को आरोपितों के क्वारंटाइन के 14 दिन पूरे होने के बाद वह शाम को ही गाव पहुंच गए और गाव के ही एक व्यक्ति के साथ मिलकर राजस्व उपनिरीक्षकों से अराजकता कर डाली। तहसील पहुंचे परिजनों ने राजस्व पुलिस से माफी मागी। राजस्व पुलिस ने तीनों को कड़ी चेतावनी व हिदायत के बाद परिजनों से लिखित माफीनामा के बाद उन्हें छोड़ दिया। चेतावनी दी कि यदि आगे अराजकता हुई तो सीधे कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

==

'मामले की सूचना मिली थी। अराजकता कतई बर्दाश्त नहीं की जाएगी। माफी मागने पर फिलहाल छोड़ा गया है। गावों में शाति भंग करने वालों को कतई बख्शा नहीं जाएगा।

- दलीप सिंह, नायब तहसीलदार'

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस