संवाद सहयोगी, मानिला/ मौलेखाल (रानीखेत) : पूर्व में एक गोलीकांड के सिलसिले में जिला बदर घोषित पूर्व जिला पंचायत सदस्य हंसा नेगी इस दफा राजस्व उपनिरीक्षक से अभद्रता व धमकी के मामले में हिरासत में ले लिया गया। रात भर हवालात में रखे जाने के बाद हालांकि उसे दो लाख के निजी मुचलके तथा दोबारा कानून तोड़ने पर सीधे मुकदमा दर्ज कर जेल भेजने की चेतावनी के साथ छोड़ दिया गया। अलबत्ता, उप जिला निर्वाचन अधिकारी के निर्देश पर राजस्व पुलिस ने शांतिभंग में चालान भी काटा है। आरोपित युवक अबकी पंचायत चुनाव में जाख क्षेत्र पंचायत सीट से निर्विरोध सदस्य चुना गया है।

सल्ट समेत स्यालदे व भिक्यासैंण ब्लॉक क्षेत्र में 16 अक्टूबर को त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के तहत तीसरे चरण का मतदान होना है। इधर बीती शाम सल्ट विकासखंड के जाख गांव में मतदाताओं को शराब बांटने की सूचना पर मछोड़ चौकी के राजस्व उपनिरीक्षक सुभाष साह मय टीम मौके पर पहुंचे। राजस्व टीम को शराब बांटने वाले तो नहीं मिले। आरोप है कि रास्ते में पूर्व जिला पंचायत सदस्य हंसा नेगी ने राजस्व टीम को जबरन रोक लिया। एतहराज जताने पर उसने राजस्व उपनिरीक्षक सुभाष साह से अभद्रता शुरू कर दी। यह भी आरोप है कि हंसा नेगी ने उन्हें धमकी भी दी। होहल्ले के बीच उप जिला निर्वाचन अधिकारी राहुल से शिकायत की गई।

इस पर एसडीएम ने तत्काल पुलिस फोर्स भेजा। आरोप हंसा नेगी को जाख क्षेत्र में ही दबोच लिया गया। एसडीएम राहुल के अनुसार आरोपित पूर्व जिपं सदस्य को रात भर थाने की हवालात में रखा गया। शांतिभंग में उसका चालान काटा गया। सोमवार की सुबह उसके क्षमायाचना पर दो लाख रुपये के निजी मुचलके पर छोड़ा। साथ ही यह भी कड़ी चेतावनी दी गई कि दोबारा कानून हाथ में लेने पर सीधा मुकदमा दर्ज कर जेल भेजा जाएगा। बताते चलें कि वर्ष 2014 के त्रिस्तरीय पंचायत में ब्लॉक प्रमुख के चुनाव में गोलीकांड में लिप्त पाए जाने पर तत्कालीन जिलाधिकारी सविन बंसल ने हंसा नेगी को जिला बदर घोषित कर दिया था।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप