संवाद सहयोगी, अल्मोड़ा : गांव बचाओ संघर्ष समिति ने प्रदेश सरकार पर राजनीति स्वार्थ को देखते हुए परिसीमन करने का आरोप लगाया है। समिति के सदस्यों ने कहा है कि इस परिसीमन से ग्रामीण क्षेत्रों का विकास पूरी तरह रूक जाएगा। इसलिए सरकार के इस निर्णय को किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

नगर के चौघानपाटा में स्थित गांधी पार्क में परिसीमन के विरोध में आयोजित धरना सभा को संबोधित करते हुए अध्यक्ष योगी सुंदरनाथ ने यह बात कही। उन्होंने कहा कि पालिका का वर्तमान क्षेत्र बुनियादी सुविधाओं के अभाव से जूझ रहा है। लेकिन यह सब जानने के बाद भी सरकार ग्रामीण क्षेत्रों को पालिका में मिलाने की साजिश कर रही है। उन्होंने आरोप लगाया कि राजनीतिक स्वार्थ के लिए ऐसे अनेक गांवों को परिसीमन से दूर रखा गया है जिनसे प्रदेश सरकार के प्रतिनिधि जुड़े हुए हैं। जबकि दूरदराज के गांवों को मानकों के बाद भी इसमें शामिल किया गया है। अन्य वक्ताओं ने कहा कि वह वह इस निर्णय के विरोध में ग्रामीण शांतिपूर्ण आंदोलन कर रहे हैं। लेकिन अगर उनकी मांग नहीं मानी गई तो समिति उग्र आंदोलन की रणनीति तैयार करेगी। जरूरत पड़ी तो ग्रामीण चुनावों का बहिष्कार करने से भी गुरेज नहीं करेंगे। धरना सभा में केपी जोशी, महेश चंद्र, अंबी राम, प्रतीश पांडे, गिरीश जोशी, हर्ष कनवाल, चंदन रावत, हरी राम आर्य, मुकेश जोशी, शेष राम, नरेंद्र प्रसाद, कुंदन लाल, बीसी दुर्गापाल, नरीराम, लक्ष्मण सिंह बोरा, गंगा सिंह फत्र्याल, एचसी उप्रेती, उत्तम सिंह नेगी, संतोष कुमार समेत अनेक ग्रामीण मौजूद रहे।

Posted By: Jagran