गरमपानी (अल्‍मोड़ा), [जेएनएन]: कोसी घाटी स्थित बसगांव के तोक नेग्यूड़ा में क्रेशर स्थापित किए जाने की सुगबुगाहट से ग्रामीणों में उबाल आ गया है। तहसील पहुंचे ग्रामीणों ने नारेबाजी कर वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी को ज्ञापन सौंपा। क्रेशर पर रोक लगाए जाने की मांग की है। चेतावनी दी है कि यदि मांग की अनदेखी की गई तो 15 जनवरी से तहसील के मुख्य गेट पर धरना शुरू कर दिया जाएगा।

बंसगांव क्षेत्र में क्रेशर स्थापित किए जाने को लेकर ग्रामीण भड़क गए हैं। अंतर जनपदीय सीमा पर स्थित तहसील कोश्या कुटोली पहुंचे दो दर्जन से अधिक ग्रामीणों ने तहसील के मुख्य गेट पर नारेबाजी की। इस दौरान हुई सभा में वक्ताओं ने कहा कि ग्रामीणों के फर्जी हस्ताक्षर कर एनओसी ले ली गई है।

जिस स्थान पर क्रेशर स्थापित किया जा रहा है वह अति संवेदनशील क्षेत्र है तथा वहां पर कई आवासीय मकान भी है। बावजूद नेग्यूड़ा तोक पर स्टोन क्रेसर स्थापित करने की तैयारी की जा रही है, जिसे कतई सहन नहीं किया जाएगा। कहा की स्टोन क्रेशर लगने से स्थानीय काश्तकारों को भी काफी नुकसान उठाना पड़ेगा तथा पर्यावरण भी प्रदूषित होगा। ग्रामीणों ने स्टोन क्रेशर पर रोक लगाए जाने तथा फर्जी हस्ताक्षर किए जाने वालों के खिलाफ कड़ी कानूनी कार्रवाई किए जाने की मांग की बाद में वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी मनमोहन सिंह सजवाण को ज्ञापन सौंपा।

इस दौरान पान सिंह,सगत सिंह, जीवन सिंह नेगी, फकिर सिंह,अनिल नेगी,दलिप बोहरा,राम सिंह,विक्रम सिंह,आंनद सिंह नेगी, दलिप सिंह ,कुंवर सिंह आदि मौजूद रहे।

उप जिलाधिकारी (कोश्या कुटोली) प्रमोद कुमार का कहना है कि ग्रामीणों का अहित नहीं होने दिया जाएगा ।मामले में जांच कर रिपोर्ट जिलाधिकारी को भेजी जाएगी। साथ ही फर्जी हस्ताक्षर वाले मामले में भी जांच करवाएंगे।

यह भी पढ़ें: फिल्म पद्मावती पर प्रदर्शन तेज़, इतिहास को धूमिल करने का आरोप

यह भी पढ़ें: फिल्म पद्मावती को उत्तराखंड में नहीं होने देंगे प्रदर्शित

Posted By: Sunil Negi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस