जागरण टीम, अल्मोड़ा/ रानीखेत : कृषि विभाग से संचालित राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन योजना का ताकुला ब्लॉक के चनौदा गाव से श्रीगणेश हो गया। कार्यक्रम में कृषि वैज्ञानिकों ने किसानों को विभिन्न तकनीक की जानकारी दी। अगले चरण में ताड़ीखेत विकास खंड में योजना की शुरुआत की जाएगी।

राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन योजना के तहत एक दिवसीय प्रशिक्षण प्रधान छानी ल्वेशाल हरीश राम की अध्यक्षता में दिया गया। न्याय पंचायत प्रभारी हरीश चंद्र ने कृषकों को कृषि विभाग से संचालित योजनाओं की जानकारी दी। साथ ही राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन योजना के तहत चयनित कलस्टर में प्रदर्शन के लिए बोए गए धान वीएल - 85 के बारे में बताया।

============

रोग नियंत्रण के तरीके बताए

कृषि विज्ञान केंद्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. बीडी सिंह ने बासमती धान में लग रहे बकाने रोग के बारे में बताया। बचाव व नियंत्रण को ट्राइकोडर्मा पाच लीटर पानी की दर से घोल बनाकर छिड़काव की सलाह दी। कहा कि पहाड़ों में अधिक बरसात होने के कारण खेतों में आवश्यकता से अधिक पानी भर जाने के कारण जल निकास की उचित व्यवस्था करनी होगी।

=========

ताड़ीखेत के चयनित गावों से शुरुआत होगी

ताड़ीखेत ब्लॉक में चयनित कलस्टर ग्रामों में भी योजना के तहत प्रशिक्षण कार्यक्त्रम चलाए जाएंगे। मुख्य कृषि अधिकारी प्रियंका सिंह ने कहा कि ताड़ीखेत समेत जनपद के विभिन्न विकासखंडों में प्रशिक्षण दे किसानों को लाभान्वित किया जाएगा।

Posted By: Jagran