संवाद सहयोगी, चौखुटिया: बच्चों में नैतिकएवं चारित्रिक मूल्यों के विकास को लेकर सार्थक प्रयास संस्था एवं डीपीएमआई के सहयोग से अणुव्रत जीवन विज्ञान अकादमी नई दिल्ली के तत्वावधान में सोमवार को यहां सरस्वती शिशु मंदिर में 19वीं अणुव्रत नैतिक गीत गायन स्पर्धा का आयोजन किया गया। जो कनिष्ठ व वरिष्ठ दो वर्गो में संपन्न हुई। इसमें विकास खंड के विभिन्न विद्यालयों के बच्चों ने उत्साह पूर्वक भाग लेकर अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया।

शुभारंभ सामाजसेवी एवं डॉ. कुलदीप बिष्ट ने मां शारदा के चित्र के सम्मुख दीप प्रज्ज्वलित कर किया। उन्होंने पठन-पाठन के साथ साथ बच्चों में बचपन से ही नैतिक संस्कार विकसित करने की वकालत की एवं इस दिशा में अणुव्रत अकादमी के प्रयासों की खुले कंठ से सराहना की। इस दौरान जूनियर वर्ग के एकल गायन प्रतियोगिता में राजकीय बालिका इंटर कालेज मासी की छात्रा एवं सीनियर स्तर पर राजकीय इंटर कालेज कलरों की छात्रा ने बाजी मारी। वहीं सरस्वती विद्या मंदिर चौखुटिया को द्वितीय स्थान मिला।

जूनियर समूह गान में राजकीय कन्या इंटर कॉलेज मासी क टीम विजेता रही। वीरशिवा स्कूल को द्वितीय व रामगंगा वैली स्कूल मासी को तृतीय स्थान मिला। सीनियर वर्ग समूहगायन में सरस्वती विद्या मंदिर चौखुटिया के हाथ बाजी लगी। समापन पर मुख्य अतिथि पूर्व प्रधानाचार्य व शिक्षाविद जेएन जोशी ने बच्चे को एक अच्छा इंसान बनाने में शिक्षकों की भूमिका को अहम बताया। संचालन अणुव्रत अकादमी के निदेशक रमेश चंद्र कांडपाल ने किया।

कार्यक्रम में डीपीएमआई के त्रिभुवन बिष्ट व पवन तिवारी ने विचार व्यक्त किए। प्रतियोगिता को संपन्न कराने में प्रधानाचार्य श्रीकृष्ण जोशी, दिनेश कांडपाल, गोकुल कांडपाल, गिरधर सिंह बिष्ट व कैलाश कांडपाल आदि ने सहयोग दिया।

Posted By: Jagran