संवाद सहयोगी, रानीखेत : पृथक जिले के लिए सर्वदलीय बैठक में छह सितंबर को आहूत बंद की रूपरेखा तय की गई। रानीखेत जिला बनावे के लिए संघर्ष को मुकाम देने के मकसद से कोर कमेटी के गठन तो देर शाम तक मंथन चलता रहा। तय हुआ कि सभी राजनीतिक दलों को एकजुट कर पंचायत प्रतिनिधियों व छात्र संगठनों को भी साथ लेकर आदोलन तेज किया जाएगा।

शिव मंदिर सभागार में मंगलवार सायं रानीखेत नए जिले के मुद्दे पर दूसरे चरण की सर्वदलीय बैठक बुलाई गई। तय हुआ कि छह सितंबर को आहूत बंद को सफल बनाने के लिए सभी को एकजुट किया जाएगा। पूर्वाह्न 11 बजे जिले के समर्थन में लोग तहसील मुख्यालय जाएंगे, जहा सीएम को संबोधित ज्ञापन संयुक्त मजिस्ट्रेट को दिया जाएगा। इस दौरान कोर कमेटी भी गठित की गई।

इस मौके पर उद्योग व्यापार मंडल जिलाध्यक्ष मोहन नेगी, कैलाश पांडे, डॉ. गिरीश वैला, संजय रौतेला, गिरीश भगत, अधिवक्ता दिनेश तिवारी, सीकेएस बिष्ट, हरीश साह, अतुल जोशी, बीसी साह, यतीश रौतेला, उमेश भट्ट, डीएन बडौला, अगस्त लाल साह, अनिल वर्मा, संदीप पाठक व राजेंद्र जोशी आदि।

==========

इनको बनाया कोर कमेटी सदस्य

= व्यापार मंडल अध्यक्ष भगवंत सिंह नेगी, दीपक अग्रवाल, हर्षवर्धन पंत, सीमा जसवाल, दीपक पंत, मनोज पंत समेत जगदीश अग्रवाल, त्रिभुवन शर्मा, सुरेश कुवार्बी, अधिवक्ता विनोद कांडपाल, ललित आर्या, पूर्व सैनिक लीग के हरी सिंह नेगी, हीरा सिंह, पूर्व व वर्तमान छात्र संघ पदाधिकारी, वृद्धजन कल्याण समिति के एचजेबी सिंह, दर्शन सिंह बिष्ट समेत सभी राजनीतिक दलों के पदाधिकारी आदि।

Posted By: Jagran