संवाद सहयोगी, अल्मोड़ा : कैबिनेट की बैठक से पूर्व हार्ट केयर सेंटर का जिन्न बाहर आ गया है। कुछ दिन शांत रहने के बाद विपक्षी दल इस ज्वलंत मुद्दे पर राज्य सरकार को घेरने की जहां पूरी तैयारी कर चुका है, वहीं सीएम को ज्ञापन भेज सेंटर दोबारा शुरू किए जाने की मांग उठाई है। इसके अलावा सांस्कृतिक नगरी में सीवर लाइन, मेडिकल कॉलेज में होने वाली नियुक्तियों में स्थानीय योग्य युवाओं को प्राथमिकता दिए जाने समेत 10 बिंदुओं को कैबिनेट में स्वीकृति की मांग भी उठाई।

जीबी पंत राष्ट्रीय हिमालयन पर्यावरण शोध एवं विकास संस्थान में आगामी 23 अक्टूबर को प्रस्तावित मुख्यमंत्री की कैबिनेट के बहाने बेस चिकित्सालय में बंद हो चुके हार्ट केयर सेंटर का मसला फिर गरमा गया है। इस मामले में लामबंद कांग्रेसी कैबिनेट से पहले ही सक्रिय हो गए हैं।

==================

कलक्ट्रेट जा धमके कांग्रेसी, ज्ञापन दिया

कांग्रेसी शुक्रवार को कलक्ट्रेट जा धमके। उन्होंने हार्ट केयर सेंटर समेत 10 मुद्दों के समाधान के लिए एडीएम बीएल फिरमाल के माध्यम से सीएम को ज्ञापन भी भेजा। कांग्रेसियों ने बागेश्वर, पिथौरागढ़, चम्पावत व अल्मोड़ा के बाशिंदों की सुविधा को देखते हुए बंद हार्टकेयर सेंटर को पुन: खोले जाने पर जोर दिया। इसके अलावा नगर व समीपवर्ती क्षेत्रों की पेयजल समस्या दूर करने को निर्माण कार्यो को स्वीकृति, सीवर लाइन से वंचित क्षेत्रों में मंजूरी, गरुड़ाबाज (जागेश्वर) में पूर्व में स्वीकृत हरीप्रसाद टम्टा हस्तशिल्प संस्थान को मूर्तरूप दिए जाने, डीडीए को समाप्त करने, बेस, जिला व महिला चिकित्सालय में विशेषज्ञ चिकित्सकों की तैनाती, मेडिकल कॉलेज में नियुक्तियों में ठेका प्रथा पर रोक, महंगाई पर नियंत्रण आदि मुद्दों को कैबिनेट में मंजूरी दिए जाने की मांग की है। इस मौके पर कांग्रेस जिलाध्यक्ष पीतांबर पांडे, पालिकाध्यक्ष प्रकाश चंद्र जोशी, पूर्व विधायक मनोज तिवारी, नगर अध्यक्ष पूरन सिंह रौतेला आदि मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप