रानीखेत, [जेएनएन]: भिकियासैण ब्लॉक के जमोली गांव के लाल अरविंद ने सिख रेजीमेंट में लेफ्टिनेंट बनकर क्षेत्र का नाम रोशन किया है। चेन्नई में कठिन प्रशिक्षण के बाद शनिवार को युवा ने अंतिम पग पार किया। 

जमोली गांव के यशपाल सिंह अधिकारी के बेटे अरविंद सिंह अधिकारी ने ऑफिसर ट्रेनिंग अकादमी(ओटीए) चेन्नई से ट्रेनिंग कर लेफ्टिनेंट पद पर नियुक्ति पा ली है। मैकेनिकल इंजीनियरिंग में गोल्ड मेडलिस्ट होने के बाद भी अरविंद ने सेना में अपना भविष्य चुन  लेफ्टिनेंट पद हासिल कर लिया। उन्हें सिख रेजीमेंट में लेफ्टिनेंट पद पर नियुक्ति मिल गई है। साथ ही कर्तव्यनिष्ठ, लगनशील, समय का पालन करना और सरल स्वभाव के चलते  अरविंद को कंपनी के लेफ्टिनेंट जनरल ने अवॉर्ड से भी सम्मानित किया है। 

आपको बता दें कि अरविंद की मां लक्ष्मी अधिकारी ग्रहणी हैं, जबकि छोटी बहन भावना अमेठी विश्वविद्यालय नोएडा (उत्तर प्रदेश) से मेडिकल कोर्स कर रही है, तो छोटा भाई रविंद्र अधिकारी पंत इंजीनियरिंग कॉलेज दिल्ली से सिविल इंजीनियरिंग कर रहा है।अरविंद की सफलता पर क्षेत्रवासियों में खुशी की लहर दौड़ पड़ी है। 

जब दादा ने पोते को किया सल्यूट

पासिंग परेड व बैच अलंकरण के बाद जब अरविंद अपने 88 वर्षीय दादा लाल सिंह अधिकारी के पास आशीर्वाद लेने पहुंचे तो दादा ने उन्हें सैल्यूट कर उनका अभिवादन किया। और उसे गले लगा लिया। दादा लाल सिंह के अनुसार 88 वर्ष की उम्र में पोते को लेफ्टिनेंट बना देख उन्हें बहुत खुशी है।

लेफ्टिनेंट अरविंद ने प्राथमिक शिक्षा गांव से, जबकि इंटरमीडिएट आर्मी स्कूल रानीखेत से प्रथम श्रेणी में पास की है। वहीं, कोटा विश्वविद्यालय जयपुर से मैकेनिकल इंजीनियरिंग में गोल्ड मेडलिस्ट भी बने।

यह भी पढ़ें: भारतीय सेना को मिले 383 युवा अधिकारी, सात मित्र देशों के 74 कैडेट भी हुए पास आउट

यह भी पढ़ें: भारतीय सैन्य अकादमी में 40 कैडेट को मिली जेएनयू की डिग्री

यह भी पढ़ें: भारतीय सैन्य अकादमी ने धूमधाम से मनाया अपना 85वां स्थापना दिवस 

Posted By: Raksha Panthari