संवाद सूत्र, ताड़ीखेत (रानीखेत) : पहाड़ के एक और युवा जांबाज ने भारतीय सेना में अधिकारी बन उत्तराखंड का गौरव बढ़ाया है। जमोली गाव (भिक्यिासैंण ब्लॉक) के अरविंद ने चेन्नई स्थित ऑफिसर ट्रेनिंग अकादमी (ओटीए) में पासिंग आउट परेड के जरिये अंतिम पग भरा। उसे बतौर लेफ्टिनेंट पहली तैनाती सिख रेजिमेंट में मिली है।

मूल रूप से जमोली गाव (भिक्यिासैंण ब्लॉक) निवासी एवं जीआइसी पाली नदुली (रानीखेत) में प्रधानाचार्य यशपाल सिंह अधिकारी का पुत्र अरविंद सिंह ने शनिवार को ओटीए चेन्नई में कठिन प्रशिक्षण हासिल करने के बाद अंतिम पग भर सेना में अधिकारी बना। मैकेनिकल इंजीनियरिंग में स्वर्ण पदक प्राप्त करने के बाद लाखों का पैकेज छोड़ भारतीय सेना को चुना। उन्हें सिख रेजीमेंट में लेफ्टिनेंट पद पर नियुक्ति मिली है।

============

रानीखेत व भिक्यिासैंण में खुशी की लहर

कर्तव्यनिष्ठ, लगनशील, समय पालन व सरल स्वभाव के चलते अरविंद को कंपनी के लेफ्टिनेंट जनरल ने अवार्ड देकर सम्मानित भी किया है। अरविंद की मा लक्ष्मी देवी अधिकारी ग्रहणी है। छोटी बहन भावना अमेठी विश्वविद्यालय (उत्तर प्रदेश) से मेडिकल की पढ़ाई कर रही है। छोटा भाई रविंद्र अधिकारी जीबी पंत इंजीनियरिंग कॉलेज दिल्ली से सिविल इंजीनियरिंग कर रहा है। अरविंद की इस उपलब्धि पर रानीखेत व भिक्यिासैंण के बाशिंदों ने इस बड़ा गौरव बताया है।

==============

जब दादा ने पोते को किया सेल्यूट

पासिंग आउट परेड व बैच अलंकरण के बाद जब अरविंद अपने 88 वर्षीय दादा लाल सिंह अधिकारी के पास आशीर्वाद लेने पहुंचा तो दादा ने सेल्यूट कर अभिवादन किया। पोते को गले लगाया। दादा लाल सिंह के अनुसार वह बेहद खुश हैं।

================

एपीएएस रानीखेत में की पढ़ाई

लेफ्टिनेंट अरविंद ने प्राथमिक शिक्षा गाव में जबकि इंटरमीडिएट आर्मी पब्लिक स्कूल (एपीएस) रानीखेत प्रथम श्रेणी में पास की। वहीं कोटा विश्वविद्यालय जयपुर से मैकेनिकल इंजीनियरिंग में स्वर्ण प्राप्त किया है।

Posted By: Jagran