संवाद सहयोगी, रानीखेत : रामनगर बद्रीनाथ रोड पर मोहनरी के निकट हुए बस हादसे में घायलों को इलाज के लिए नागरिक चिकित्सालय लाया गया। इस दौरान इलाज के बीच में ही रेफर करने तथा संयुक्त मजिस्ट्रेट के अस्पताल न पहुंचने कांग्रेसियों का पारा चढ़ गया। हंगामा काटा। व्यवस्थाएं दुरुस्त करने की मांग की। इस बीच उपनेता प्रतिपक्ष करन माहरा ने जैसे तैसे मामला शांत करवाया।

बस हादसे में घायल लोगों को जैसे ही अस्पताल में लाया गया सेवादारी के लिए स्थानीय युवाओं का हुजूम उमड़ पड़ा। इस बीच अस्पताल की व्यवस्थाओं से नाराज कांग्रेसियों का पारा चढ़ गया। उनका कहना था कि न तो अस्पताल में व्यवस्थाएं ही सही है और न रेफर किए गए मरीजों को हल्द्वानी ले जाने के लिए 108 व एंबुलेंस की। इस बीच चिकित्साधीक्षक से नोंक झोंक भी हुई। उपनेता करन माहरा ने जैसे तैसे मामला सुलझाया। इसी बीच संयुक्त मजिस्ट्रेट के न पहुंचने पर कांग्रेसी फिर भड़क उठे। विधायक करन माहरा ने फोन पर बात करनी चाही तो संयुक्त मजिस्ट्रेट का नबंर नहीं लगा। बाद में तहसीलदार से वार्ता की और रेफर किए गए मरीजों को हायर सेंटर तक पहुंचाने के लिए एंबुलेंस आदि की व्यवस्था के निर्देश दिए। वाहनों के इंतजाम होने पर बमुश्किल घायल को रेफर किया गया।

वहीं बस हादसे के घायलों के नागरिक चिकित्सालय पहुंचने पर सेवादारी के लिए स्थानीय युवाओं का हुजूम उमड़ पड़ा। हंगामा करने वालों में महामंत्री अजय बबली, भूपेंद्र रावत, यतीश रौतेला दीपक पंत, ललित अस्वाल, अतुल जोशी, भूपेश रावत, महेंद्र सिंह बिष्ट, हेमंत मेहरा, कुलदीप मेहरा आदि शामिल रहे।

============

स्थानीय युवाओं की सराहना

बस हादसे के दौरान घायलों को रोड तक लाने में सहयोग के लिए विधायक करन माहरा ने स्थानीय युवाओं की सराहना की। उन्होंने कहा स्थानीय मनोज पड़लिया, करन करगेती, जगत रावत, हरीश खुल्वे, गणेश खुल्बे, विनोद भट्ट, भैरव जोशी व संजय जोशी के प्रयासों का ही परिणाम है कि घायलों को समय पर उपचार मिल सका।

Posted By: Jagran