संवाद सहयोगी, रानीखेत : बारिश न होने तथा तपिश बढ़ने के साथ ही जंगलों का धधकना तेज हो गया है। अधिकांश वन क्षेत्र दावानल की चपेट में आने लाखों की अकूत वन संपदा खाक हो गई है। वहीं डोबरा के जंगल में लगी आग के आबादी क्षेत्र में पहुंचने से चारा घास के लिए लगाए चार लुट्ठे स्वाहा हो गए। इधर पालिका क्षेत्र चिलियानौला के जंगल में धधकी आग पर नगरपालिका कर्मियों ने तत्परता दिखाते हुए काबू कर लिया।

जाड़े के सीजन में बारिश न होने तथा गर्मी बढ़ने के साथ जंगलों में आग लगने की घटनाएं बढ़ने लगी हैं। शीतलाखेत क्षेत्र में डोबरा वन क्षेत्र में धधकी आग के आबादी क्षेत्र में पहुंचने से ग्रामीणों में अफरातफरी मच गई। जब तक कि ग्रामीण कुछ समझ पाते आग की लपटों ने भोला दत्त तिवारी के चार घास के लुट्ठों को अपनी चपेट में ले लिया। इससे ग्रामीणों के सम्मुख चारा घास का संकट पैदा हो गया है। ग्राम प्रधान मोहित जोशी ने प्रभावित परिवार को मुआवजा दिए जाने की मांग की है। इधर नगरपालिका चिलियौनाला वन क्षेत्र में अचानक आग धधकी। सूचना पर पहुंचे पालिका पर्यावरण मित्र सिद्धांत कुमार, पंकज कुमार, करन कुमार व शुभम राजौरिया ने तेज हवा के साथ उठती लपटें व धुंए के गुबार के बमुश्किल आग पर काबू पाया।

-------------

आग से जंगलों का बचाने का लिया संकल्प

जासं, बागेश्वर: उपतहसील सभागार काफलीगैर में वनों को आग से बचाने के लिए कार्यशाला का आयोजन किया गया। वन दारोगा प्रयाग दत्त चौबे ने धूराफाट क्षेत्र के वनों को बचाने के लिए हरसंभव प्रयास करने का संकल्प दोहराया। उन्होंने स्थानीय लोगों से भी मदद की अपील की।

आयोजित कार्यशाला में प्रशिक्षक देवेंद्र सिंह मुस्यूनी ने फायर वाचरों को आग बुझाने का प्रशिक्षण दिया। आग लगने के कारणों पर चर्चा की। उन्होंने कहा कि प्राकृतिक कारणों से भी आग लगती है। जिसमें आकाशीय बिजली गिरना, पत्थरों की रगड़ आदि शामिल है। इसके अलावा अराजक तत्व के अलावा लापरवाही भी जंगलों के लिए खतरा बन सकती है। उन्होंने कहा कि आग लगाने वालों के खिलाफ वन विभाग सख्त कार्रवाई करने जा रहा है। लोगों को भी सहयोग करना होगा। उन्होंने कंट्रोल रूम में फोन कर आग लगने की सूचना तत्काल देने को कहा। इस मौके पर नंदन राम, मंगल नाथ, लोकेश तिवारी, शोबन सिंह, हेम तिवारी, अनिल कुमार, नंदन सिंह, राजेंद्र सिंह आदि मौजूद थे।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021