संस, चौखुटिया (अल्मोड़ा) : झलाहाट (बैराठ नगरी) की उर्वर जमीन पर एयरपोर्ट निर्माण की कवायद तेज हो गई है। राजस्व विभाग के भूमि का सीमाकन पूरा कर लिया गया है। आयुक्त अरविंद सिंह ह्यांकी ने भावी हवाई पट्टी के लिए चिह्नित भूमि का जायजा लिया।

सामारिक लिहाज से झलाहाट में अरसे से एयरपोर्ट निर्माण को कसरत चल रही है। पूर्व में वायु सेना के अधिकारी सर्वे फिर चयनित भूमि का सीमाकन किया जा चुका है। अब प्रस्ताव केंद्र को भेजा जाएगा। इसी मकसद से गुरुवार को आयुक्त ह्यांकी ने स्थलीय निरीक्षण किया। इ मौके पर सीडीओ नवनीत पाडे, एसडीएम आरके पाडे, तहसीलदार सतीश बर्थवाल, बीडीओ हर्ष सिंह अधिकारी आदि मौजूद रहे।

==========

उपजाऊ खेतों पर हवाई पट्टी के खिलाफ उतरे ग्रामीण

= बोले- किसानों की आय दूनी करने के सपने दिखा उजाड़ी जा रही उर्वर कृषि भूमि

= महिलाएं सड़क पर बैठीं, आरपार के संघर्ष का ऐलान चौखुटिया : आयुक्त के झलाहाट पहुंचने की भनक लगते ही तमाम गावों के बाशिदे एयरपोर्ट के विरोध पर उतर आए। चयनित भूमि के आखिरी छोर पर बसे कवाधार गाव में हुजूम जमा हो गया। कृषि भूमि पर हवाई पट्टी के खिलाफ महिलाएं सड़क पर बैठ गई। खेती बचाने को आरपार के संघर्ष का ऐलान किया। आयुक्त को भी गुस्सा झेलना पड़ा।

ग्रामीणों ने तर्क दिया कि एक ओर सरकार किसानों की आय दोगुना करने के सपने दिखा रही। दूसरी तरफ उपजाऊ जमीन नष्ट की जा रही है। उन्होंने राजस्व भूमि पर हवाई पट्टी बनाने की मांग उठाई। दो टूक कहा कि उर्वर खेतों पर हवाई पट्टी स्वीकार नहीं है। हालांकि आयुक्त ने ग्रामीणों को समझाने का भरसक प्रयास किया। अन्य विकल्प सुझाने का भरोसा दिलाया। मगर ग्रामीण जिद पर अड़े रहे। आयुक्त को सीएम को संबोधित ज्ञापन भी दिया। इस दौरान चंदन फुलोरिया, पूर्व प्रधान मोहन सिंह, खीम सिंह कैड़ा व पुष्पा देवी, पूर्व प्रधान मोहन सिंह, कृपाल नायक, चंदन फुलोरिया, कृष्णानंद खुल्बै, ख्याली शर्मा, जगत भाकुनी, सुंदर सिंह मनराल, भगवत सिंह, मोहन सिंह नेगी, दान सिंह मनराल, गिरीश चंद्र, उमेश मनराल, प्रेम पालीवाल, पूजा मेहरा, मीना, शाति, मंजू, प्रेमा भट्ट, राधा, हीरा देवी, पूरन चंद्र देवतला, गोपुली देवी व दुर्गा राम आदि शामिल रहे।

========

पहाड़ में खेती खत्म करने की साजिश : पीसी

इधर उत्तराखंड परिवर्तन पार्टी (उपपा) के केंद्रीय अध्यक्ष पीसी तिवारी ने कहा कि झलाहाट बेहद उपजाऊ कृषि भूमि है। इस पर हजारों परिवार पुश्तों से खेती कर जीवन गुजर बसर करते आ रहे। पहाड़ में पहले ही सरकारों की गलत नीतियों से कृषि भूमि खत्म हो चुकी हैं। उन्होंने कहा कि चौखुटिया, द्वाराहाट, स्याल्दे आदि तमाम क्षेत्रों में राजस्व भूमि पर बेहतर हवाई पट्टी बनाई जा सकती है।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021