संस, रानीखेत : अल्मोड़ा -हल्द्वानी हाईवे से सटे तमाम गावों को जोड़ने वाले काकड़ीघाट-खूंट मोटर मार्ग पर कार्यदायी संस्था की मनमानी पर आखिरकार ग्रामीणों का सब्र जवाब दे गया। गाव के ठीक ऊपर भारी भरकम मशीनों से पहाड़ी के साथ निर्माणाधीन सड़क में करीब पंद्रह फीट गहरा गढ्डे करने से आक्रोशित ग्रामीणों ने कार्य रुकवा दिया। सड़क पर धरने पर बैठ संबंधित विभाग के खिलाफ नारेबाजी की भी। आरोप लगाया कि कई बार आवाज उठाने के बावजूद विभागीय अधिकारी कार्रवाई नहीं कर रहे। उन्होंने कार्यदायी संस्था पर मनमानी का आरोप लगाया।

निर्माणाधीन खूंट-ककड़ीघाट मोटर मार्ग पर बेड़गाव के ठीक ऊपर भारी भरकम मशीनों से पहाड़ी खदान व मोटर मार्ग में करीब पंद्रह फीट गहरे खड्डे खोद दिए जाने से गाव के ऊपर मानव जनित आपदा का खतरा पैदा हो गया। खतरा भाप शुक्रवार को गाव के लोग सड़क पर उतर आए और पहाड़ी पर खदानकार्य रुकवा दिया। इस बीच महिलाएं जेसीबी मशीन के आगे धरने पर बैठ गई और संबंधित विभाग के खिलाफ नारेबाजी कर गुबार निकाला। आरोप लगाया कि पहाड़ी खदान व रोड में पंद्रह फीट से ज्यादा गहरा गढ्डा करना समझ से परे है। यही हालात रहे तो मोटर मार्ग के ठीक नीचे रहने वाले बीस से अधिक परिवारों के मकानों पर तबाही मच सकती है।

ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि पहाड़ी व मोटर मार्ग पर गढ्डे कर पत्थर व मलबा निकाल सड़क में बिछाया जा रहा है। मुनाफे के फेर में ग्रामीणों की जान जोखिम में डाली जा रही। जगह-जगह मानकों को ताक पर रख पहाड़ी खदान किया जा चुका है। आरोप लगाया कि कई मवेशी भी पहाड़ी से गिरकर मारे जा चुके हैं। कई बार आवाज उठाने पर भी कोई सुनवाई नहीं हो रही। दो टूक चेतावनी दी कि यदि मनमानी की गई तो अब जिला मुख्यालय स्थित जिलाधिकारी कार्यालय में अनिश्चितकालीन धरना दिया जाएगा।

इस दौरान आनंद सिंह, हरीश सिंह, गोपाल सिंह, धीरेंद्र सिंह, कुबेर सिंह, जीवन सिंह, दौलत सिंह, डूंगर सिंह, संजय सिंह, नीरज सिंह, ललित सिंह, गिरीश सिंह, नरेंद्र सिंह, नारायण सिंह, रामलाल, विनोद कुमार, महेंद्र सिंह नेगी, देवेंद्र सिंह, तेज सिंह, राजन सिंह, पुष्पा पाडे, बचुली देवी, मोहनी देवी, पार्वती देवी, सावित्री देवी, भगवती देवी आदि मौजूद रहे।

अधिकारियों को सुनाई खरी-खोटी

ग्रामीणों के धरने पर बैठ जाने से हड़कंप मच गया। आसपास के गावों के ग्रामीण भी मौके पर पहुंच गए। बाद में पीएमजीएसवाइ खंड के अधिकारी भी मौके पर पहुंचे। ग्रामीणों ने अधिकारियों को खरी-खोटी सुनाई। आरोप लगाया कि ठेकेदार को फायदा पहुंचाने के फेर में ग्रामीणों की जान जोखिम में डाली जा रही है जिसे कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। सहायक अभियंता जीबी जोशी व अवर अभियंता जाबिर अली को ग्रामीणों के गुस्से का सामना करना पड़ा। मौके पर पहुंचे नायब तहसीलदार विवेक राजौरी ने बमुश्किल ग्रामीणों को शात कराया साथ ही कार्यदायी संस्था के कर्मचारियों को फटकार लगाई। चेतावनी दी कि यदि अगली बार खुदान किया गया तो कड़ी कार्रवाई की जाएगी, तब जाकर ग्रामीण शात हुए।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021